एसएमई आईपीओ की धूम, 78 करोड़ के लिए मिला रिकॉर्ड 18,900 करोड़ 

नई दिल्ली। मुख्य प्लेटफॉर्म पर आईपीओ लाकर रिकॉर्ड बना रहीं कंपनियों की तरह ही छोटी और मझोली कंपनियां (एसएमई) भी रिकॉर्ड बना रही हैं। पहली बार किसी एसएमई कंपनी के आईपीओ को रिकॉर्ड 18,900 करोड़ रुपये के लिए आवेदन मिला है। जबकि कंपनी को केवल 78 करोड़ रुपये जुटाने थे। मंगलवार को बंद हुए एसेंट माइक्रोसेल के इश्यू को 362 गुना का सब्सक्रिप्शन मिला है। 

एसेंट माइक्रोसेल का शेयर ग्रे मार्केट में 300 रुपये से ज्यादा भाव पर कारोबार कर रहा है जबकि आईपीओ में मूल्य 140 रुपये था। एसेंट माइक्रोसेल से पहले चेन्नई की बेसिलिक फ्लाई स्टूडियो को 14,000 करोड़ रुपये के लिए आवेदन मिला था। दिलचस्प यह है कि इसमें 8,197 करोड़ रुपये तो खुदरा निवेशकों के थे। इससे पहले ओरियाना पावर को 60 करोड़ के एवज में 7,000 करोड़ रुपये का आवेदन मिला था। इसका शेयर 118 रुपये की तुलना में 302 रुपये पर सूचीबद्ध हुआ था। कृष्का स्ट्रैपिंग को 4,391 करोड़ रुपये के लिए आवेदन मिले थे। 

एसएमई कंपनियां जमकर पैसा जुटा रही हैं। 8 इश्यू तो इसी महीने खुले हैं। इस साल अब तक कुल 169 कंपनियों के आईपीओ आए हैं। इसमें से 121 ने लिस्टिंग पर निवेशकों को फायदा दिया है। एसएमई कंपनियों ने इस साल रिकॉर्ड 4,000 करोड़ से ज्यादा जुटाए हैं। 2022 में 109 कंपनियों ने 1,980 करोड़, 2021 में 59 कंपनियों ने 787 करोड़, 2020 में 27 कंपनियों ने 168 करोड़, 2019 में 54 कंपनियों ने 657 करोड़ और 2018 में 144 कंपनियों ने 2,409 करोड़ जुटाई थी। 

एसएमई आईपीओ में रिकॉर्ड 730 गुना तक सब्सक्रिप्शन मिला है। काहां पैकेजिंग का इश्यू 730 गुना इस साल भरा था। नेट अवेन्यू को 511 गुना, मैत्रेय मेडिकेयर को 446 गुना, मधुसूदन मसाला को 444 गुना, एनलॉन टेक को 428 गुना और दपिक केटेक्स के इश्यू को 403 गुना सब्सक्रिप्शन मिला था। 

अभी तक इस साल जिन कंपनियों ने निवेशकों को सबसे ज्यादा फायदा दिया है उनमें आरबीएम इनफ्राकॉम है। इसने 1033 पर्सेंट का फायदा दिया है। गायत्री रबर्स ने 481 पर्सेंट, विष्णुसूर्या ने 454 पर्सेंट, बोंदादा इंजीनियरिंग 441 पर्सेंट और वसा डेंटिसिटी 427 पर्सेंट का फायदा दिया है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *