अदाणी के शेयरों में निवेश कर इस निवेशक ने कमाए 17,000 करोड़ रुपये  

मुंबई- अमेरिकी रिसर्च फर्म हिंडनबर्ग के आरोपों के कारण जब अडानी के शेयर धड़ाम हो गए थे। निवेशकों और शेयर धारकों का भरोसा उनपर से हिल गया था। बाजार का सेंटिमेंट अडानी के खिलाफ हो गया था। लोगों को भरोसा अडानी की कंपनियों से उठने लगा था। उस वक्त अमेरिका से आए एक दोस्त ने अडानी पर विश्वास जताया। उनकी मदद करने के लिए अडानी की कंपनियों में बड़ा निवेश किया। अमेरिकी फर्म जीक्यूजी पार्टनर ने उस संकट की घड़ी में अडानी की कंपनियों में बड़ा निवेश किया। 

राजीव जैन फ्लोरिडा बेस्ड इन्वेस्टमेंट मैनेजमेंट कंपनी जीक्यूजी पार्टनर्स के चेयरमैन हैं। उन्होंने अडानी की कंपनियों में बड़ा निवेश किया। साल के शुरुआत में जब हिंडनबर्ग के आरोपों के चलते अडानी समूह को लेकर बाजार का सेंटिमेंट बिगड़ गया था। निवेशकों का भरोसा हिल गया था। अडानी के शेयर लगातार गिरते जा रहे थे। अडानी की कंपनियों के शेयर के दाम आधे से भी अधिक गिर चुके थे। तब राजीव जैन ने अडानी पर भरोसा दिखाया। अडानी की कंपनियों के शेयरों में बड़ा निवेश किया गया।  

राजीव जैन ने बाजार से सेंटिमेंट के विरुद्ध जाकर अडानी के शेयरों में पैसा लगाया। इस निवेश का अडानी को भी फायदा हुआ। अडानी को मिले इस बड़े निवेश के बाद दूसरे निवेशकों का भरोसा भी लौटने लगा। जब राजीव जैन ने अडानी की कंपनियों में पहली बार निवेश किया था, उस वक्त अडानी ग्रुप की वैल्यूएशन में 79 अरब डॉलर का इजाफा हुआ। राजीव जैन ने सबसे पहले अडानी समूह की फ्लैगशिप कंपनी अडानी इंटरप्राइजेज लिमिटेड में 1410 करोड़ रुपये का निवेश किया। इसके बाद अडानी पोर्ट, अडानी एनर्जी. अडानी ग्रीन, और अडानी पावर में निवेश किया। 

अडानी की कंपनियों में बड़ा निवेश राजीव जैन के लिए फायदेमंद साबित हुआ। जैसे-जैसे अडानी के शेयरों के दाम बढ़ने लगे, जीक्यूजी का मुनाफा बढ़ता चला गया। मार्च 2023 में राजीव जैन ने अडानी की कंपनियों में करीब 20360 रुपये लगाए थे। मार्च से दिसंबर तक कंपनी का पार्टोफोलियो 84 फीसदी तक बढ़ चुका है। कंपनी का मुनाफा 37459 करोड़ रुपये तक पहुंच गया है। यानी 9 महीनों में राजीव जैन ने अडानी के शेयरों से 17099 करोड़ रुपये की कमाई कर ली है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *