इंजीनियरिंग उत्पादों का निर्यात 18 प्रमुख देशों में बढ़ा, यूरोप, चीन में घटा 

मुंबई- भारत से अक्तूबर में दुनिया के 18 प्रमुख देशों में इंजीनियरिंग उत्पादों के निर्यात में वृद्धि देखी गई है। इन देशों में अमेरिका, सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात जैसे देश हैं। हालांकि, यूरोपीय संघ, चीन और दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों के निर्यात कमी आई है। 

इंजीनियरिंग एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल (ईईपीसी) के मुताबिक, अक्तूबर में कुल 809 करोड़ डॉलर के निर्यात हुए जो एक साल पहले की तुलना में 7.2 फीसदी ज्यादा है। ईईपीसी इंडिया के चेयरमैन अरुण कुमार गरोडिया ने कहा, यूरोपीय संघ और उत्तरी अमेरिका के देशों द्वारा भारतीय निर्यातकों पर लगाए जा रहे अवरोधों के कारण स्थिति और खराब हो गई है। 

जिन देशों में इंजीनियरिंग उत्पादों के निर्यात में ज्यादा गिरावट आई उनमें इटली को 23.6 फीसदी, सिंगापुर को 39.1 फीसदी, इंडोनेशिया को 18.2 फीसदी, नीदरलैंड को 52.4 फीसदी, बेल्जियम को 20.9 फीसदी और चीन को निर्यात में छह फीसदी की कमी आई। 

विकसित देशों में मंदी के रुझान से बाहरी मांग में कमी आने से इन उत्पादों का निर्यात प्रभावित हुआ है। मंदी में मुख्य रूप से योगदान देने वाले कारकों में बढ़ती वैश्विक महंगाई और यूरोप व अमेरिका में उच्च ब्याज दरें हैं। यह देश भारत के इंजीनियरिंग क्षेत्र के लिए प्रमुख बाजार भी हैं। इंजीनियरिंग उत्पादों में लौह और इस्पात उत्पादों, विद्युत और औद्योगिक मशीनरी से लेकर वाहन और हवाई अड्डे से संबंधित विभिन्न प्रकार के उत्पाद हैं। भारत के कुल विदेशी निर्यात में इनका हिस्सा एक चौथाई है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *