विजयपत सिंघानिया ने कहा, गौतम सिंघानिया मुझे रोड पर देख खुश होते हैं 

मुंबई- रेमंड ग्रुप के चेयरमैन गौतम सिंघानिया और उनकी पत्नी नवाज मोदी के अलग होने की खबरों के बीच ग्रुप के फाउंडर और गौतम के पिता विजयपत सिंघानिया का एक इंटरव्यू सामने आया है। विजयपत ने अपनी विरासत बेटे को सौंपने पर अफसोस जताया। 

विजयपत ने कहा- ‘मेरे पास अब कुछ नहीं है। मैंने उसे सब कुछ दिया। गलती से मेरे पास कुछ पैसे बच गए थे, जिनसे मैं आज गुजारा कर रहा हूं। नहीं तो मैं सड़क पर होता। वह मुझे सड़क पर देखकर खुश होता। मुझे इस बात का यकीन है। अगर वह अपनी पत्नी को इस तरह बाहर फेंक सकता है, अपने पिता को इस तरह बाहर फेंक सकता है, मुझे नहीं पता कि वह क्या है।’ 

विजयपत सिंघानिया ने अपने बेटे के बारे में बात करते हुए कहा, ‘माता-पिता को अपने बच्चों को सब कुछ देने से पहले बहुत सावधानी से सोचना चाहिए। मैं आपको यह नहीं कह रहा हूं कि मत दो। मैं केवल यह कह रहा हूं कि अपनी मौत के बाद दें। अपने जीवनकाल में न दें, क्योंकि इसकी आपको भारी कीमत चुकानी पड़ सकती है।’ 

विजयपत सिंघानिया ने कहा कि उन्होंने नवाज मोदी की मदद करने की पेशकश की थी, लेकिन नवाज ने कहा, ‘नहीं पापा, मैं इसे खुद संभाल लूंगी।’ उन्होंने कहा, ‘मैं इसका सम्मान करता हूं। इसलिए मैं गौतम और नवाज के बीच हस्तक्षेप नहीं करना चाहता हूं। यह बेहतर है, मैं नवाज को संभालने दूं। वह भी एक पॉपुलर और सम्मानित कानूनी परिवार से आती हैं। उनके पिता 93 वर्ष के हैं, जो बहुत वरिष्ठ वकील हैं। वह खुद भी एक वकील हैं, हालांकि उन्होंने कभी प्रैक्टिस नहीं की है। 

अगर उन्हें कभी भी मेरी सलाह की जरूरत हो तो मेरे पास आने के लिए उसका स्वागत है। मैं अच्छी से अच्छी मदद करने की कोशिश करूंगा, लेकिन अगर वह इसे खुद करना चाहती हैं तो मैं हस्तक्षेप नहीं करूंगा। मुझे लगता है कि उन्हें अपना जीवन अपनी इच्छा के अनुसार जीने का अधिकार है। सभी बच्चों को यह अधिकार मिलना चाहिए।’ 

एक समय मेरे पास बहुत सारा पैसा, शक्ति और अधिकार भी थे। मुझे नहीं लगता कि भगवान की कृपा से यह कभी मेरे सिर पर चढ़ा। अगर यह बात उसके (गौतम) सिर पर चढ़ गई है, तो शायद वह उनमें से एक है। इस दुनिया में ऐसे कई लोग हैं जो इसे अपने सिर पर चढ़ने देते हैं। पैसा पावर है, पावर ईगो है, ईगो अहंकार है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *