टाटा टेक को रिकॉर्ड 73 लाख मिले आवेदन, 5 कंपनियों को 2.59 लाख करोड़ मिले 

मुंबई- इस हफ्ते खुले पांच आईपीओ को निवेशकों ने हाथोंहाथ लिया है। यह पांचों कंपनियां बाजार से 7,377 करोड़ रुपये जुटाने उतरीं थीं। इसके एवज में इनको 2.59 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा के आवेदन मिले। सबसे ज्यादा 3,042 करोड़ रुपये जुटाने वाली टाटा टेक ने एलआईसी के रिकॉर्ड को तोड़ भारतीय आईपीओ बाजार में इतिहास रचा है। एलआईसी को 73.34 लाख आवेदन जबकि टाटा टेक को 73.58 लाख आवेदन मिले हैं। 

पिछले साल एलआईसी के इश्यू में कुल 73.34 लाख आवेदन मिले थे। हालांकि, उसमें भी 20 लाख से ज्यादा आवेदन विभिन्न कारणों से खारिज हो गए थे। 2008 में अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस पावर को 48 लाख आवेदन मिले थे। करीब 18 महीने बाद आए सरकारी आईपीओ इरेडा को कुल 30.92 लाख आवेदन मिले थे। फ्लेयर को 17 लाख, गांधार ऑयल को 28.47 लाख और फेडफिना को 3.67 लाख आवेदन मिले हैं। 

आईपीओ में इतिहास रचने वाली टाटा टेक का शेयर ग्रे मार्केट में भी धमाल मचा रहा है। इसका शेयर 400 रुपये के प्रीमियम पर है। यानी यह शेयर 850 से 900 रुपये के बीच सूचीबद्ध हो सकता है। इरेडा का प्रीमियम 11 रुपये है यानी यह 43 रुपये पर सूचीबद्ध हो सकता है। गांधार ऑयल का प्रीमियम 76 रुपये है जबकि फ्लेयर राइटिंग का प्रीमियम 82 रुपये है। फेडफिना का प्रीमियम 8 रुपये है। इसका मतलब यह हुआ कि पांचों आईपीओ में निवेशकों को जबरदस्त फायदा मिल सकता है। 

इस साल अब तक कुल 40 आईपीओ आए हैं जिनमें से 38 में निवेशकों ने जमकर कमाई की है। इन पांच आईपीओ को लेकर कुल 45 आईपीओ आ चुके हैं। पिछले दस सालों में छोटी और बड़ी कंपनियों को मिलाकर सबसे ज्यादा 2017-18 में कुल 188 कंपनियां आईपीओ लाई थीं। हालांकि इन सभी ने केवल 30,090 करोड़ ही जुटाई थीं। 2021-22 में 120 कंपनियों ने 1.1 लाख करोड़ रुपये की रकम जुटाई गई। 2022-23 में 164 और चालू वित्त वर्ष में अब तक 175 से ज्यादा कंपनियां बाजार में उतर चुकी हैं। 

आंकड़ों के अनुसार फ्लेयर में खुदरा निवेशकों ने 29 गुना पैसा लगाया है जबकि टाटा टेक में 16.50 गुना पैसा लगाया है। गांधार ऑयल में 29 गुना से ज्यादा पैसा लगाया है। यह आईपीओ 65 गुना से ज्यादा भरा है। इन सबके बीच फेडफिना के आईपीओ को बहुत ज्यादा रिस्पांस नहीं मिला है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *