आयकर रिफंड में आई तेजी, पांच वर्षों में घटा लोगों का प्रतीक्षा समय 

मुंबई- आयकर रिफंड में पिछले पांच वर्षों में तेजी आई है। कंफेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री (सीआईआई) के एक सर्वेक्षण में कहा गया है कि कम से कम 89 फीसदी व्यक्तियों और 88 फीसदी कंपनियों का मानना है कि 2018-2023 के बीच आयकर रिफंड पाने के लिए प्रतीक्षा समय में अधिक कमी आई है। 

सीआईआई आयकर रिफंड सर्वेक्षण में यह भी पाया गया कि 75.5 फीसदी व्यक्तियों और 22.4 फीसदी फर्मों ने अपनी अनुमानित कर देनदारी से अधिक टीडीएस का भुगतान नहीं किया। कराधान व्यवस्था को सुव्यवस्थित, सरल और स्वचालित करने के लिए हाल के वर्षों में सरकार ने व्यापक उपाय किए हैं। इससे लोगों और कंपनियों को भरपूर लाभ हुआ है। 

रिपोर्ट के अनुसार, 87 फीसदी व्यक्तियों और 89 फीसदी कंपनियों को लगता है कि आयकर रिफंड का दावा करने की प्रक्रिया सुविधाजनक है। सीआईआई के महानिदेशक चंद्रजीत बोस ने कहा, पिछले 5 वर्षों में व्यक्तियों और फर्मों दोनों को आयकर रिफंड प्राप्त करने के लिए प्रतीक्षा समय में महत्वपूर्ण कमी दिखी है। यह वर्षों से आयकर रिफंड प्राप्त करने की प्रक्रिया को सरल और कुशल बनाने के सरकार के अथक प्रयासों को दर्शाता है। 

सीआईआई का सर्वेक्षण अक्तूबर, 2023 में 3,531 उत्तरदाताओं के बीच किया गया था। इनमें से 56.4 फीसदी व्यक्ति थे। 43.6 फीसदी फर्म या संगठन थे। इस सर्वे में देश के प्रमुख राज्यों को शामिल किया गया था। आईटीआर रिफंड प्रक्रिया में स्वचालन और सरलीकरण ने करदाताओं के बीच टैक्स विभाग के प्रति विश्वास बढ़ा दिया है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *