जानिए महिंद्रा समूह के चेयरमैन आनंद महिंद्रा की क्या करती हैं दोनों बेटियां  

मुंबई- महिंद्रा एंड महिंद्रा के चेयरमैन आनंद महिंद्रा सोशल मीडिया से लेकर यूथ के बीच खूब चर्चा में रहते हैं। लोगों को महिंद्रा के काम करने का तरीका खूब पसंद है। वे सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं और समय-समय पर शानदार पोस्ट शेयर करते रहते हैं।  

अपने कारोबार को लेकर आनंद महिंद्रा इतने सजग है कि वो सिर्फ महिंद्रा की गाड़ियां ही इस्तेमाल करते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि उनका मानना है कि अगर वे खुद अपनी कंपनी की कारों का इस्तेमाल नहीं करेंगे, तो फिर उनके ग्राहक ऐसा कैसे करेंगे? आनंद महिंद्रा 1.9 लाख करोड़ रुपये मार्केट वाली कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप को संभाल रहे हैं, लेकिन एक सवाल लोगों के मन में जरूर उठ रहा है कि उनके बाद महिंद्रा की कमान कौन संभालेंगे। 

 

बिजनस ऑटोमोबाइल, एग्रीकल्चर, आईटी और एयरोस्पेस समेत कई सेक्टर्स में महिंद्रा का कारोबार फैला है, जिसे वो सालों से संभाल रहे हैं। उनकी दो बेटियां हैं, लेकिन उनमें से कोई भी अभी ग्रुप में लीडरशिप पोजीशन में नहीं हैं। 

आनंद महिंद्रा की दो बेटियां हैं दिव्या और आलिका। उनकी बेटी दिव्या ने न्यू स्कूल से बैचलर डिग्री हासिल रकी। उन्होंने डिजाइनिंग और व्यूअल कम्यूनिकेशन के तौर में बैचलर डिग्री हासिल की है। साल 2009 में उन्होंने ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद फ्रीलांसर के तौर पर काम किया। साल 2015 में वो वर्व मैग्जीन ज्वाइंन किया। बतौर आर्ट डायरेक्टर वो वहां काम करती रही हैं। 

​दिव्या ने न्यूयार्क में रहने वाले मैक्सिकन मूल के आर्टिस्ट डॉर्ड जपाटा से शादी की और वहीं अमेरिका में बस गई। वहीं उसकी दूसरी बेटी आलिका ने फ्रांसीसी नागरिक से शादी की। आपको बता दें कि आनंद महिंद्रा की पत्नी अनुराधा इस मैगजीन की फाउंडर और एडिटर हैं। उनकी बड़ी बेटी दिव्या मैगजीन में क्रिएटिव डायरेक्टर है और छोटी बेटी आलिका मैगजीन की एडिटोरियल डायरेक्टर हैं। 

आनंद महिंद्रा ने अपनी बेटियों को पूरी छूट दी। उन्हें अपनी जिंदगी के फैसले लेने की पूरी छूट दी। आनंद महिंद्रा ने अपनी बेटियों को कभी भी फैमिली बिजनस ज्वाइन करने का दबाब नहीं दिया। उनपर शादी का दवाब नहीं दिया। बेटियों की पसंद के लड़कों से उनकी शादी भारतीय परंपराओं के साथ की, जिसकी काफी चर्चाएं हुई थी। आनंद महिंद्रा की बेटियां विदेश में रहती है और महिंद्रा के कारोबार में कुछ खास रुचि नहीं रखती है। 

आनंद महिंद्रा ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा था कि उनकी हमेशा से कोशिश रही है कि उनकी बेटियां खुद अपनी पसंद तय करें। उन्होंने एक किस्सा सुनाते हुए कहा था कि शेयरहोल्डर की मीटिंग में उनसे पूछा गया कि उनकी बेटियां कारोबार का हिस्सा क्यों नहीं है? आनंद महिंद्रा ने कहा कि उनकी बेटियां फैमिली बिजनस का हिस्सा है और उनकी पत्नी के साथ काम कर रही है। उन्होंने कहा कि वो महिंद्रा एंड महिंद्रा को फैमिली बिजनस नहीं मानते हैं। 

​उन्होंने कहा कि उनके दादा जी ने साल 1945 में देशभक्ति के तौर पर कंपनी की शुरुआत की थी। वो अपने कारोबार को जनता के पैसों के कस्टोडियन के तौर पर देखते थे। इसलिए वो महिंद्रा एंड महिंद्रा के फैमिली बिजनस के तौर पर नहीं देखते हैं। उन्होंने बताया कि उनके घर में बच्चों को अपने मन के मुताबिक काम करने की छूट है। 

आनंद महिंद्रा की पत्नी का नाम अनुराधा महिंद्रा है। वह जाने माने मैगजीन मैन्स वर्ल्ड की फाउंडर है। हिंदू परिवार में जन्मी अनुराधा की परवरिश मुंबई में हुई। कॉलेज में उनकी मुलाकात आनंद महिंद्रा से हुई । आनंद महिंद्रा ने अनुराधा को फिल्मी अंदाज में अपनी दादी की अंगूठी देकर प्रपोज किया था। अनुराधा ने अमेरिका के बोस्टन यूनिवर्सिटी से पत्रकारिता की पढ़ाई की। अनुराधा कैमरे और लाइम लाइट से दूर रहती हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *