ब्लॉक डील के कारण रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयरों में तीन फीसदी की गिरावट 

मुंबई- मार्केट कैप के लिहाज से देश की सबसे अधिक मूल्यवान कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर बुधवार को इंट्रा-डे ट्रेड में 3 फीसदी से अधिक की गिरावट के साथ NSE पर अपने दो महीने के निचले स्तर 2,355 रुपये पर पहुंच गए। 20 जुलाई 2023 के बाद से कंपनी केशेयर अपने सबसे निचले स्तर पर हैं। 

रिलायंस के शेयरों में यह गिरावट बाजार खुलने के बाद एक र्ब्लॉक डील की खबर सामने आने के बाद आई। ब्लॉक डील विंडो में 4,512 करोड़ रुपये का आदान-प्रदान हुआ। एक्सचेंज डेटा से पता चलता है कि NSE पर सुबह 11 बजे तक लगभग 2.3 करोड़ इक्विटी शेयर के सौदे हुए थे जो RIL की कुल इक्विटी का 0.35 प्रतिशत है।  

हालांकि खरीददारों और विक्रेताओं के नामों का तुरंत पता नहीं चल पाया है। ब्लॉक डील विंडो में 4,512 करोड़ रुपये का आदान-प्रदान हुआ। रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर BSE पर ₹2,422.95 पर खुला। RIL के शेयर की कीमत आज इंट्राडे में न्यूनतम ₹2,361.60 और उच्चतम स्तर ₹2,426.40 पर पहुंच गई।  

कारोबार के अंत में रिलायंस का शेयर 2.21 फीसदी की गिरावट के साथ 2,382 रुपये पर बंद हुआ। RIL के शेयर की कीमत में आज लगातार चौथे सत्र में गिरावट का सिलसिला जारी रहा। पिछले चार सत्रों में अब तक RIL के शेयर की कीमत में 2% से अधिक की गिरावट आई है। 20 जुलाई से, RIL ने अपने वित्तीय सेवा व्यवसाय – जियो फाइनेंशियल सर्विसेज (पूर्व में रिलायंस स्ट्रैटेजिक इन्वेस्टमेंट्स) ने शेयर बाजार में कारोबार शुरू किया।  

पिछले एक महीने में, RIL ने निफ्टी 50 में 3 फीसदी की बढ़ोतरी के मुकाबले 5 फीसदी की गिरावट के साथ बाजार में कमजोर प्रदर्शन किया है। रिलायंस के शेयर ने पिछले साल भी निफ्टी 50 इंडेक्स से कमजोर प्रदर्शन किया है। ट्रेंडलाइन एनालिसिस के अनुसार, उच्च पूंजीगत व्यय दबाव, बढ़ता कर्ज, खराब पूंजी रिटर्न और रिलायंस रिटेल और रिलायंस जियो की लिस्टिंग के संबंध में स्पष्टता की कमी सहित कई कारकों ने इसमें योगदान दिया है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *