उत्तर प्रदेश में स्मार्टफोन खरीदने के लिए नाबालिग को 20 हजार में बेचा 

मुंबई- यूपी के गाजीपुर में स्मार्टफोन खरीदने के लिए एक नाबालिग ने 9वीं में पढ़ने वाली 14 साल की छात्रा का अपहरण कर 20 हजार में तीन लड़कों को बेच दिया। इसमें उसने अपने एक दोस्त की मदद ली। दोनों लड़के छात्रा के घर मजदूरी कर रहे थे। 

छात्रा को खरीदने वालों ने उसके साथ गैंगरेप किया, फिर गंगा में फेंककर भाग गए। हालांकि मछुआरों ने उसे बचाकर पुलिस को सौंप दिया। पुलिस ने पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। इनमें 4 नाबालिग हैं। पीड़ित छात्रा के मकान का काम चल रहा है। उसके यहां काम करने वाला एक मिस्त्री बीमार हुआ तो उसने अपने नाबालिग बेटे को काम करने भेज दिया। लड़के को स्मार्टफोन खरीदना था, लेकिन पैसे नहीं थे। जब वह काम करने गया तो उसने छात्रा को देखकर उसके अपहरण का प्लान बनाया। 

मुख्य आरोपी ने अपने नाबालिग दोस्त की मदद से छात्रा को अगवा किया। उसे बाइक पर वाराणसी के चौबेपुर ले गए और अपने तीन दोस्तों को बेच दिया। इन खरीदारों में भी दो नाबालिग हैं। लड़की को बेचने वाला मुख्य आरोपी खरीदारों से पैसे लेकर अपने दोस्त के साथ वापस गाजीपुर आ गया। 

खरीदार तीनों आरोपियों ने वाराणसी में हाईवे के किनारे गेहूं के खेत में लड़की से गैंगरेप किया। उसे दिनभर साथ लेकर घूमते रहे। देर रात उन्होंने हत्या के इरादे से लड़की को गंगा पुल से नीचे फेंक दिया। पीड़ित छात्रा का इलाज वाराणसी में चल रहा है। उसने परिवार वालों को बताया- 5 मार्च को मैं कोचिंग जा रही थी। तभी मुझे रास्ते में घर पर काम करने वाले दोनों लड़के मिले। मैं वहां से जाने लगी, तो उन लोगों ने मुझे रोक लिया और जबरन बाइक पर बैठा लिया। चिल्लाने पर जान से मारने की धमकी दी। 

मुझे नहीं पता था, वे लोग मुझे कहां लेकर जा रहे हैं? करीब 2-3 घंटे के बाद वो लोग एक जगह पर रुके। वहां पहले से 3 लोग खड़े थे। दोनों युवकों ने उन तीनों से पैसे लिए और फिर मुझे वहीं छोड़कर चले गए। मैं उनको रोकती रही, लेकिन वो लोग नहीं रुके। 

जिसके बाद तीनों लड़के मुझे जबरन एक खेत पर ले गए। वहां तीनों ने मेरे साथ संबंध बनाए। मेरे मना करने पर भी वो लोग नहीं रुके। संबंध बनाने के बाद मुझे बाइक से पता नहीं कहां-कहां लेकर गए। उसके बाद उन लोगों ने मुझे कुछ खिलाया, जिसके बाद मैं बेहोश हो गई। जब मेरी आंख खुली, तो मैं अस्पताल में थी। 

नाबालिग आरोपी ने पुलिस को बताया- मेरे एक दोस्त ने स्मार्टफोन खरीदा है। मुझे भी वैसा फोन लेना था। घर में पापा से मैंने पैसे मांगे, लेकिन उन्होंने मना कर दिया। हम लोग इतने पैसे वाले भी नहीं है। कुछ दिन पहले पापा की तबीयत बिगड़ गई थी। 

पापा उस समय एक घर बनाने का काम कर रहे थे। उनकी तबीयत खराब होने पर मुझे वहां मजदूरी करने जाना पड़ा। मैं 3 मार्च से उस घर में जा रहा था। वहीं पर मैंने इस लड़की को देखा था। जिसके बाद मैंने दोस्त के साथ मिलकर अपहरण का प्लान बनाया। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *