मल्टी असेट फंड में आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल की बादशाहत बरकरार

मुंबई- देश के टॉप फंड हाउसों में से एक आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्यूचुअल फंड को उसके हाइब्रिड ऑफर्स के लिए जाना जाता है। प्रदर्शन के मामले में यह फंड हाउस हमेशा कामयाब रहा है और इसने कई सालों में निवेश का सुखद अनुभव प्रदान किया है। निवेशकों के बीच सबसे लोकप्रिय हाइब्रिड कटेगरी में से तीन- मल्टी-एसेट, एग्रेसिव हाइब्रिड और बैलेंस्ड एडवांटेज, में आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल के ऑफर्स साल 2022 में एक बार फिर से टॉप परफॉर्मेंस करने वालों में शुमार हुए।

जैसा कि नाम से पता चलता है कि मल्टी-एसेट कटेगरी वह है जिसमें एक निवेशक को एक ही फंड के माध्यम से तीन या अधिक एसेट क्लास में निवेश मिलेगा। 21 दिसंबर, 2022 तक इस कटेगरी का कुल एयूएम लगभग 23,000 करोड़ रु रहा। इसमें से संपत्ति के मामले में फंड का सबसे बड़ा फंड एयूएम कटेगरी का लगभग 21,691.61 करोड़ रुपये या 89.63% है। 

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल मल्टी-एसेट स्कीम ने पिछले एक साल में 17% रिटर्न दिया और कैटेगरी रिटर्न चार्ट में सबसे ऊपर रहा। दूसरा सबसे अच्छा परफॉर्मेंस करने वाला यानी टाटा मल्टी एसेट ने 7% का रिटर्न दिया जो इसके मुकाबले काफी पीछे रहा। इस तरह के शानदार परफॉरमेंस का श्रेय सोने जैसे एसेट क्लास में फंड के अधिक एक्सपोजर को दिया जा सकता है। क्योंकि मूल्यांकन महंगा होने से जब बाजार ऑल टाइम हाई पर पहुंच गया था और इस दौरान इक्विटी में अलोकेशन कम हुआ। इनमें से प्रत्येक कॉल ने फंड के लिए अच्छा परफॉरमेंस किया।

हाइब्रिड ऑफर्स की बात करें तो यह 65% से 80% तक इक्विटी अलोकेशन के साथ सबसे आक्रामक कटेगरी में से एक रहा है। इस कैटेगरी की कुल संपत्ति 1,60,240.23 करोड़ रुपये है और एयूएम कैटेगरी का 70.6% सिर्फ टॉप पांच स्कीम्स का है। यहां भी आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल 11.7% रिटर्न के साथ कैटेगरी रिटर्न चार्ट में सबसे आगे है। इस आउटपरफॉर्मेंस को फ्लोटिंग रेट बॉन्ड्स के लिए उनके विवेकपूर्ण डेट अलोकेशन के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है, जो 2022 में ब्याज दरों में वृद्धि के साथ टॉप डेट कटेगरी में से एक था। इसके बाद अगले सबसे अच्छा परफॉर्मेंस करने वाले फंड ने 8.9% रिटर्न दिया है। एसबीआई हाउस इस कटेगरी में सबसे बड़ा फंड (संपत्ति के मामले में) 2.3% रिटर्न के साथ तीसरे स्थान पर है, जो अपेक्षाकृत काफी कम है।

यह एक ऐसी कटेगरी है जिसमें पिछले तीन वर्षों में उतार-चढ़ाव के समय में निवेशक अपनी दिलचस्पी दिखाते रहे हैं। इस कटेगरी का एयूएम 196,696.68 करोड़  रुपये है और यह हाइब्रिड ऑफर्स में सबसे ज्यादा है। टॉप फाइव फंड कुल एयूएम का लगभग 72% कमांड करते हैं। इस कटेगरी  का मुख्य आकर्षण यह है कि यहां फंड मैनेजर जब चाहे इक्विटी और डेट को आवंटित कर सकता है। यह देखते हुए कि इस कैटेगरी में आमतौर पर रूढ़िवादी निवेशकों द्वारा पसंद किया जाता है, जब मूल्यांकन आकर्षक हो जाता है तब अधिकांश फंड हाउस इक्विटी में अपना अलोकेशन बढ़ा देते हैं और मूल्यांकन कम होने पर घटा भी देते हैं।

अलोकेशन तय करने के लिए फंड मैनेजर मार्केट मेट्रिक्स, इन-हाउस मॉडल आदि पर भरोसा करते हैं, ताकि मानवीय पूर्वाग्रह को दूर रखा जा सके। फंड आमतौर पर इक्विटी के लिए हाई उच्च अलोकेशन बनाए रखता है जो बाजार की तेजी के दौरान फंड के परफॉरमेंस में मददगार होता है। पिछले साल यह फंड लगभग 19% रिटर्न देकर बैलेंस्ड एडवांटेज कैटेगरी में टॉप परफॉर्मर के रूप में उभरा।  

दूसरा सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाला आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लगभग 34.4% के औसत मासिक शुद्ध इक्विटी स्तर के साथ लगभग 8% रिटर्न दे रहा था। इक्विटी में कम अलोकेशन को देखते हुए परफॉरमेंस के मामले में फंड अपेक्षाकृत कम उतार चढ़ाव वाला रहा है। वास्तव में, यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि जब हाइब्रिड ऑफर्स के मैनेजमेंट की बात आती है तो आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल के अप्रोच ने अपने निवेशकों के लिए मजबूत रिटर्न और कम उतार चढ़ाव के लिहाज से से अच्छा काम किया है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *