भारत में मोबाइल बना सकती है चीनी कंपनी वनप्लस, करेगी भारी निवेश

नई दिल्ली। चीनी हैंडसेट निर्माता वनप्लस ने कहा कि वह भारत में नए विनिर्माण निवेश का पता लगाएगी, क्योंकि दक्षिण पूर्व एशियाई देशों में विस्तार के बावजूद उसका प्रमुख फोकस भारत पर है। हमारी वैश्विक उपस्थिति हमारे लिए अत्यंत महत्वपूर्ण बनी हुई है। वनप्लस के संस्थापक पीट लाउ ने कहा, ब्रांड के साथ-साथ हमारे उत्पाद की लॉन्चिंग के लिए भारत एक प्रमुख बाजार बना रहेगा। हम अपने सभी मौजूदा बाजारों को प्राथमिकता देते हैं।  

वनप्लस इंडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) नवनीत नाकरा ने कहा कि भारत दुनिया भर में इसके सबसे बड़े बाजारों में से एक है। यहां पर यह लंबे समय के सतत विकास के लिए प्रतिबद्ध है। हम इस प्रतिबद्धता पर कायम रहेंगे और विनिर्माण निवेश का पता लगाएंगे। फिलहाल कंपनी मिड-प्रीमियम स्मार्टफोन और स्मार्ट टीवी के साथ भारत में अपने फ्लैगशिप डिवाइस बना रही है। इसने पहले भारत में टीडब्ल्यूएस ऑडियो, स्मार्टवॉच और स्मार्टबैंड लॉन्च किए थे।  

लाउ ने कहा कि ओपो के साथ वनप्लस के एकीकरण से कंपनी को संसाधनों को बेहतर तरीके से बढ़ाने में मदद मिली है। ओपो वनप्लस को अपने विशाल शोध एवं विकास (आरएंडडी) संसाधनों और प्रौद्योगिकियों तक पहुंच प्रदान करता है जो भविष्य के वनप्लस उपकरणों में मौजूद होंगे। उन्होंने दोहराया कि वनप्लस उत्पाद योजना, ब्रांड प्रस्ताव और विपणन स्तरों पर अपनी विशिष्ट विशेषताओं को बनाए रखेगा और स्वतंत्र रूप से काम करना जारी रखेगा।  

वनप्लस भारतीय बाजार में रिटेल को और बढ़ाएगा। इसने इस साल की शुरुआत में भारत में दुनिया के सबसे बड़े वनप्लस एक्सपीरियंस स्टोर वनप्लस बुलेवार्ड को लॉन्च किया था। इसका उद्देश्य वनप्लस के प्रीमियम ब्रांड अनुभव को रिटेल ग्राहकों तक पहुंचाना था। नाकरा ने कहा कि 5जी रोलआउट से पूरे बाजार को बढ़ावा मिलेगा और ब्रांड को अपनी स्थिति मजबूत करने में मदद मिलेगी। जब उपभोक्ता प्रौद्योगिकी की बात आती है तो भारत में हमेशा जबरदस्त क्षमता होती है और यह वैश्विक स्तर पर वनप्लस के लिए एक महत्वपूर्ण बाजार है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *