आरबीएल और इंडसइंड का कर्ज और महंगा, ग्राहकों की किस्त हो सकती है ज्यादा 

मुंबई- निजी क्षेत्र के प्रमुख बैंकों में से एक आरबीएल बैंक ने अपने ग्राहकों को बड़ा झटका दिया है। आरबीएल बैंक ने लैंडिंग रेट में 10 बीपीएस तक की बढ़ोतरी कर दी है। बैंक की आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक, नए एमसीएलआर 22 दिसंबर, 2022 को प्रभावी होंगे। इसके चलते एमसीएलआर से जुड़े टर्म लोन की ब्याज दरों में इजाफा होने की संभावना है।  

आरबीएल बैंक में पर्सनल लोन, होम लोन और सभी तरह के लोन की ईएमआई मौजूदा और नए दोनों ग्राहकों के लिए बढ़ जाएगी। आरबीएल बैंक अब ओवरनाइट एमसीएलआर 8.70% ब्याज, 1 महीने की एमसीएलआर 8.80%, 3 महीने की एमसीएलआर 9.10%, 6 महीने की एमसीएलआर 9.50% और 1 साल की एमसीएलआर 9.90% की दर से दे रहा है। दूसरी ओर, 07 दिसंबर, 2022 से आरबीएल बैंक का रेपो लिंक्ड लेंडिंग रेट 11.35% है। 

लोन लेने वालों को ध्यान देना चाहिए कि जिस दिन आपका लोन मंजूर हुआ है, उस दिन प्रभावी एमसीएलआर आपके लोन पर लागू होगा। नतीजतन, ब्याज दर रीसेट तिथि पर प्रभावी एमसीएलआर में समायोजित हो जाएगी। चूंकि आरबीएल बैंक ने सभी अवधियों में एमसीएलआर में 10 बीपीएस की बढ़ोतरी की है। ऐसे में उधारकर्ताओं को अगली रीसेट तिथि पर अपने एमसीएलआर-लिंक्ड लोन पर ईएमआई में इजाफे का पता चलेगा। 

इस बीच, इंडसइंड बैंक ने सभी अवधियों के लिए फंड आधारित उधार दर यानी एमसीएलआर में 5 से 15 बेसिस प्वाइंट की वृद्धि की घोषणा की है। बैंक के मुताबिक नए एमसीएलआर 22 दिसंबर, 2022 से प्रभावी होंगे। इंडसइंड बैंक द्वारा दी जाने वाली मौजूदा दरों में एक साल का एमसीएलआर 9.95%, 2 साल और 3 साल का एमसीएलआर 10.15% शामिल है। 

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने वित्त वर्ष 23 में अब तक नीतिगत रेपो दर में 225 आधार अंकों की बढ़ोतरी की है। दिसंबर में प्रमुख दर को बढ़ाकर 6.25% कर दिया है, जो अगस्त 2018 के बाद का उच्चतम स्तर है। इसके चलते बैंकों को अपनी बेंचमार्क उधार दरों में वृद्धि करने के लिए MCLR, रेपो-लिंक्ड लेंडिंग रेट और लेंडिंग रेट के साथ चालू वित्त वर्ष में जमा दरों में लगातार वृद्धि की है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *