चीन तो कोरोना में है काफी पीछे, अमेरिका में पहले से ही कोरोना की रफ्तार तेज 

मुंबई- चीन में लगातार बढ़ते कोरोना वायरस के मामलों की चर्चा जोरों पर है। हेल्थ एक्सपर्ट बता रहे हैं कि यहां संक्रमण अब तक की सबसे तेज रफ्तार से बढ़ रहा है, लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी WHO की 21 दिसंबर को जारी साप्ताहिक रिपोर्ट में चौंकाने वाली बात सामने आई है। 

पिछले 28 दिनों में लैटिन अमेरिकी देशों में चीन के मुकाबले दोगुनी रफ्तार से कोरोना फैल रहा है। हालांकि कोरोना से मौत के मामलों में चीन की रफ्तार अभी भी सबसे तेज है। विश्व स्वास्थ्य संगठन दुनिया को 6 हिस्सों में बांटकर कोरोना वायरस की साप्ताहिक रिपोर्ट जारी करता है। इन 6 में से 4 क्षेत्रों में कोविड-19 के मामले स्थिर हैं या घट रहे हैं। वहीं दो क्षेत्रों में मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। कोरोना बढ़ने वाले इलाकों में पश्चिमी एशिया और अमेरिका रीजन हैं।

 

रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 28 दिनों में पश्चिमी एशिया यानी चीन और आस-पास के इलाकों में कोरोना के नए मामले 44% बढ़े हैं। वहीं लैटिन अमेरिकी इलाके में कोरोना के नए मामले 87% की दर से बढ़े हैं। यानी पिछले 28 दिनों में लैटिन अमेरिका में चीन के मुकाबले कोरोना फैलने की रफ्तार करीब दोगुनी है। 

WHO के कुल 6 रीजन में से पश्चिमी एशिया यानी चीन रीजन में संक्रमण से मौतें सबसे ज्यादा हो रही हैं। पिछले 28 दिनों में यहां कोरोना वायरस संक्रमण से मौतों में 49% की बढ़ोतरी हुई है। वहीं, अमेरिका और कैरिबियाई देशों में इतने ही दिनों में 13% मौत के मामले बढ़े हैं। बीते 28 दिनों में यूरोप में कोरोना संक्रमण से मौतों में 25% की कमी आई है। वहीं, साउथ-ईस्ट एशिया में संक्रमण से मौतों के आंकड़े में 45% तक की कमी आई है। भारत साउथ ईस्ट एशिया रीजन का ही हिस्सा है। 

WHO के मुताबिक 19 नवंबर से 19 दिसंबर के बीच एक महीने में 99,950 कोरोना केस की जीनोम सीक्वेंसिंग कराई गई, जिनमें 99,667 मामले ओमिक्रॉन के थे। यानी दुनियाभर में इस वक्त कुल कोरोना मामलों के लिए 99.7% केस ओमिक्रॉन वैरिएंट के हैं। 

ओमिक्रॉन के कई सब-वैरिएंट हैं। जैसे- BA.1, BA.2, BA.5 वगैरह। रिपोर्ट में कहा गया है कि ओमिक्रॉन वैरिएंट के कुल जितने केस सामने आ रहे हैं, उनमें 68% केस BA.5 सब-वैरिएंट के हैं। ध्यान देने वाली बात ये है कि चीन में जिस सब वैरिएंट से अभी सबसे ज्यादा संक्रमण फैल रहा है वो BA.5.2.1.7 है, जिसे शॉर्ट में BF.7 कह रहे हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन इस वक्त दुनियाभर में कोरोना के 6 सब-वैरिएंट की मॉनिटरिंग कर रहा है। इनमें BA.5, BA.275, BA.4.6, BA.2.30.2,BQ.1, XBB शामिल हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *