महंगाई का असर खत्म होते ही लोगों ने तेजी से खर्च करना शुरू किया-आरबीआई 

मुंबई- शुरुआती मुद्रास्फीतिकारी दबाव आपूर्ति से जुड़े झटकों की वजह से था, लेकिन जैसे-जैसे उनका प्रभाव कम हुआ, लोगों ने ‘जबर्दस्त तरीके से खर्च’ (रिवेंज रिबाउंड) करना शुरू कर दिया जिससे महंगाई अब लगातार बनी हुई है। 

भारतीय रिजर्व बैंक के एक लेख में यह टिप्पणी की गई है। इस लेख में फरवरी, 2022 के बाद से देश में महंगाई के रुख का आकलन किया गया है। 

लेख में कहा गया है कि रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते आपूर्ति पक्ष के झटकों ने खुदरा मुद्रास्फीति को भारतीय रिजर्व बैंक के छह प्रतिशत के संतोषजनक स्तर से ऊपर कर दिया था। हालांकि, उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित खुदरा मुद्रास्फीति नवंबर में घटकर 5.9 प्रतिशत पर आ गई है। मुख्य रूप से सब्जियां सस्ती होने से मुद्रास्फीति नीचे आई है। 

रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर माइकल देवव्रत पात्रा के नेतृत्व वाली एक टीम द्वारा लिखे गए इस लेख में कहा गया है कि शुरुआती मुद्रास्फीतिकारी दबाव आपूर्ति पक्ष के झटकों की वजह से था। लेकिन इनका प्रभाव कम होने के बाद जोर-शोर से खरीदारी की जाने से मुद्रास्फीति लगातार टिकी हुई है। 

‘रिवेंज रिबाउंड’ पर आधारित खरीदारी का मतलब है कि महामारी के दौर में लगी बंदिशें हटने के बाद लोगों ने एक तरह का प्रतिशोध लेने के लिए खूब खरीदारी की है। यह लेख रिजर्व बैंक के मंगलवार को जारी बुलेटिन का हिस्सा है। लेख में भारत में फरवरी, 2022 के बाद से मुद्रास्फीति के रुख का विश्लेषण करने का प्रयास किया गया है। 

इसमें कहा गया है कि जनवरी, 2022 तक महामारी की दो विनाशकारी लहरों का दौर बीतने और प्रतिकूल आधार प्रभाव के साथ फरवरी, 2022 में आरबीआई ने 2022-23 के दौरान औसत महंगाई 4.5 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया था। यह अनुमान कोरोना वायरस संक्रमण के कम होने, आपूर्ति श्रृंखला के दबाव में कमी, सामान्य मानसून और वैश्विक जिंस कीमतों में एक सीमित दायरे में बढ़त पर आधारित था। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *