आरबीआई भवन में ही ठगों ने एक महिला से ठग लिया 45 लाख रुपये  

मुंबई- ठगों ने गवर्नर के फर्जी साइन करके एक महिला से 45 लाख रुपये ठग लिए हैं। मामला सुर्खियों में बना हुआ है। ठगों ने पूरी योजना के साथ महिला के साथ ठगी की है। मामले की पुलिस जांच कर रही है, लेकिन अभी तक ठगों का पता नहीं चल पाया है। वहीं महिला से ठगे गए रुपयों का भी कुछ पता नहीं चला है। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। 

बदमाशों ने एक रिटायर सरकारी अधिकारी को ब्रिटेन सरकार के साथ साझेदारी में गोरखपुर में नया स्कूल स्थापित करने का लालच दिया। इसके बाद बदमाशों ने रिटायर सरकारी अधिकारी को किश्तों में 45 लाख रुपये देने का झांसा दिया। मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक, इस मामले में 64 वर्षीय पीड़िता ने पुलिस को दी अपनी शिकायत में बताया है कि किस तरह उसके साथ ठगी हुई है। पीड़िता के मुताबिक, उसे ब्रिटेन के एक नंबर से व्हाट्सएप कॉल आया था।  

कॉल करने वाली महिला ने खुद को एक शिक्षाविद् के रूप में पेश किया। इसके बाद महिला ने मामले पर चर्चा के लिए दिल्ली में भारतीय रिजर्व बैंक के भवन में एक बैठक का प्रस्ताव रखा। पीड़िता के मुताबिक, जब वो वहां पहुंची तो वहां महिला अपने एक साथी के साथ पहुंची थी। महिला के साथी ने खुद के कस्टम ऑफिसर होने का दावा किया। इसके बाद महिला ने पीड़िता से 50 हजार रुपये का भुगतान शुल्क के रूप में करने का अनुरोध किया। 

पीड़िता के मुताबिक, कथित तौर पर कई महीनों के दौरान किश्तों के रूप में उससे 45 लाख रुपये से अधिक का भुगतान करने के लिए कहा गया था। ठगों ने पीड़िता से वादा किया कि उसके रुपये सुरक्षा के साथ जमा किए जा रहे हैं और स्कूल के चालू होते ही उसे वापस कर दिए जाएंगे। पीड़िता का दावा है कि महिला ने उसे पूर्व गवर्नर के जाली हस्ताक्षर वाली आरबीआई (RBI) की फर्जी रसीदें भी जारी कीं थीं।  

पीड़िता के मुताबिक, उसने अपने एसबीआई खाते से सात लेनदेन में 24,35,114 रुपये और नौ लेनदेन में अपने सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया खाते से 21,54,897 रुपये का भुगतान किया था। पीड़िता ने अपने बैंक खातों की डिटेल पुलिस को दी है। पीड़िता के मुताबिक, भुगतान किए गए रुपयों को सात बैंक खातों जिसमें पांच एसबीआई खातों और दो बैंक ऑफ बड़ौदा खातों में ट्रांसफर करने के लिए कहा गया था। ये सभी खाते दिल्ली के हैं। 

पीड़िता ने दावा किया कि आरोपियों के मोबाइल नंबर अभी भी चालू हैं और उन्होंने उससे आठ लाख रुपये और मांगे हैं। रिटायर अधिकारी ने मदद के लिए कोर्ट और पुलिस का दरवाजा खटखटाया है। थानाध्यक्ष के मुताबिक, मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस जांच कर रही है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *