फरारी से आकर ठगों ने बैंक में से लूटे 800 करोड़, दुनिया की सबसे बड़ी ठगी 

मुंबई- बैंक के बाहर एक चमचमाती लंबी कार रुकती है। कार से दो बेहद स्टाइलिश लड़के बाहर निकलते और सीधा बैंक में अंदर घुसते हैं। ‘हमें बैंक मैनेजर से मिलना है’… बैंक के अंदर इंक्वायरी काउंटर में जाकर वो बैंक मैनेजर के लिए पूछते हैं और फिर उस रूम की तरह बढ़ जाते हैं जहां मैनेजर बैठा था। कोई नहीं जान पाता ये दो लड़के इस बैंक को लूटने आए हैं। कोई नहीं समझ पाता फरारी कार से निकले, ब्रांडड कपड़े पहने ये दो शातिर चोर हैं।  

बैंक मैनेजर के कमरे में ये दोनों मैनेजर की सामने वाली कुर्सी में बैठ जाते हैं। ‘मुझे बैंक में खाता खुलवाना है और यहां पर एक लॉकर भी चाहिए’… इन दो लड़कों में से एक बैंक मैनेजर को लॉकर के लिए कहता है। उसके बाद इनकी कुछ बातें होती हैं और फिर ये बैंक मैनेजर के साथ सेफ रूम में चले जाते हैं जहां बैंक का सारा पैसा, जूलरी और कीमती सामान रखा जाता है।  

बैंक मैनेजर के अलावा इनके साथ दो सुरक्षाकर्मी भी चलते हैं। ‘यहां हम सारा कीमती सामान रखते हैं और ये पूरी तरह से सुरक्षित है। बैंक मैनेजर इन्हें अपने बैंक के कड़ी सुरक्षा के बारे में बताता है। तभी इन दोनों में से एक लड़का अपनी जेब में हाथ डालता है और एक पिस्टल निकालकर मैनेजर की तरफ तान देता है। जबकी दूसरा लुटेरा सिक्योरिटी गार्डस को बंदूक की नोक पर चुप रहने के लिए कहता है। ये तीनों को बंधक बना लेते हैं। 

मैनेजर और दो सिक्योरिटी गार्ड अब इनके पास बंधक होते हैं। बैंक में उस वक्त ज्यादा लोग नहीं थे। जो एक दो लोग बैंक में होते हैं उन्हें भी ये बंधक बना लेते हैं और धमकी देते हैं कि अगर किसी ने कोई भी एक्शन किया तो उसे मार दिया जाएगा। इसके बाद ये दोनों लुटेरे बैंक के मेन गेट की तरफ एक बोर्ड लगाते हैं जिसमें लिखा होता है- बैंक अस्थाई रूप से बंद है। गेट को अंदर से बंद कर दिया जाता है। ये दोनों चोर अपनी कार से बैग लेकर आते हैं और आधे घंटे के अंदर फटाफट सारा पैसा बैग में भर लेते है और फिर अपनी फरारी से फरार हो जाते हैं। 

थोड़ी देर बाद जब दूसरी शिफ्ट के लोग बैंक के अंदर पहुंचते हैं तो वहां का हाल देखकर हैरान हो जाते हैं। बैंक मैनेजर समेत सिक्योरिटी गार्ड्स और दूसरे कर्मचारी भी बंधक बने हुए होते हैं। बैंक से पूरी करंसी गायब होती है और बाहर बोर्ड लगा होता है बैंक अस्थाई रूप से बंद है। पुलिस को खबर दी जाती है। कई टीमें बैंक में पहुंचती है। पता चलता है कि बैंक को लूटने वाला वैलेरियो विसी है। आखिर कौन था ये शातिर चोर वैलेरियो जिसके नाम का पुलिस को पहले से ही पता था। 

ये घटना 12 जुलाई 1987 की है। लंदन के एक सेफ डिपोजिट सेंटर में वैलेरियो ने अपने एक दोस्त के साथ मिलकर उस दिन भारतीय करंसी के हिसाब से 800 करोड़ रूपये लूटे थे । वैलेरियो इटली का माफिया डॉन था। उन दिनों इटली में माफिया राज का काफी बोलबाला था। इटली के माफिया पूरी दुनिया में अपराधों को अंजाम दे रहे थे।  

वैलेरियो भी इटली की पुलिस लिस्ट में मोस्ट वांटेड अपराधी था। उसपर हथियारों के दम पर 50 से ज्यादा लूट के केस दर्ज थे। वो बेहद स्टाइलिश ज़िंदगी जीता था। बेहद हैंडसम दिखने वाला वैलेरियो अपनी प्लेबॉय इमेज के लिए काफी मशहूर था। करोड़ों की फरारी कार चलाने का शौकीन ये अपराधी अपने शौक पूरे करने के लिए बड़ी-बड़ी लूट को अंजाम देता था जिनमें से एक थी लंदन के बैंक की ये लूट 

इस लूट को अंजाम देने के बाद शातिर वैलेरियो लंदन से फरार होकर अमेरिका चला गया था और पुलिस उसका कुछ नहीं बिगाड़ पाई। बैंक से लूटे पैसे से अमेरिका में उसने खूब मजे उड़ाए। कसीनो में जाना, महंगे होटल्स में रहना, लड़कियों को घूमना वैलेरियों की ज़िंदगी मजे से चल रही थी, लेकिन इस शातिर चोर ने इसके बाद एक ऐसी गलती की जिसने इसे जेल की सलाखों के पीछे डाल दिया।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *