प्रमुख देशों में दर बढ़ाने के मामले में भारत नौवें स्थान पर, अर्जेंटीना शीर्ष पर 

मुंबई- वृद्धि को रोक कर महंगाई को काबू में लाने के लिए दरें बढ़ाने का सिलसिला पूरी दुनिया में चालू है। इस साल जनवरी से लेकर नवंबर तक प्रमुख देशों में दर बढ़ाने के मामले में भारत नौवें स्थान पर रहा है। जबकि सबसे ज्यादा दर 37 फीसदी अर्जेंटीना ने बढ़ाया है। भारत से कम दर बढ़ाने के मामले में यूरो सहित चार देश रहे हैं।  

यूरो में जहां 2 फीसदी ब्याज दर बढ़ी है, वहीं फ्रांस, इटली और जर्मनी ने भी 2-2 फीसदी दर बढ़ाया है। दरों को बढ़ाने का असर भी दिखा है और ज्यादातर देशों में महंगाई अब कम हो रही है। हालांकि, उनके केंद्रीय बैंकों के लक्ष्य की तुलना में यह अभी भी ऊपर है। 

आंकड़ों के अनुसार, मैक्सिको ने 4.50 फीसदी दर इस साल बढ़ाई है जबकि ब्राजील ने 3.50 फीसदी बढ़ाई है। कनाडा के केंद्रीय बैंक ने 3.5 फीसदी तो दक्षिण अफ्रीका ने 3.25 फीसदी की बढ़त की है। दक्षिण कोरिया ने हालांकि कम बढ़ाया है जो 2.25 फीसदी रही है। भारत में लगातार पांच बार दरों को बढ़ाने से खुदरा महंगाई 7 फीसदी से नीचे आ गई है और अगर यह नवंबर में 6 फीसदी पर आती है तो एक बार फरवरी में 0.25 फीसदी की बढ़त और हो सकती है। पिछले तीन बार में 0.50-0.50 फीसदी की बढ़त को अब आरबीआई ने रोक दिया है। 

कोटक महिंद्रा के एमडी उदय कोटक ने कहा कि 6 फीसदी से नीचे लाने के लिए आरबीआई एक बार और दरें बढ़ा सकता है। हालांकि, वह इसे 4 फीसदी तक लाने की कोशिश करेगा। सीआईआई के कार्यक्रम में उन्होंने कहा, अमेरिकी केंद्रीय बैंक की इस महीने पेश होने वाली नीति समीक्षा की बैठक से आगे का संकेत पता चलेगा। अमेरिकी केंद्रीय बैंक ने भी दरों को आक्रामक तरीके से बढ़ाने की रफ्तार को अब और धीमा कर दिया है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *