30 लाख का लोन और 30 साल की अवधि, किस्त में 23 फीसदी का इजाफा

मुंबई- रेपो रेट में बढ़ोतरी के कारण मौजूदा कर्जदकके लिए किस्त में 23 फीसदी का इजाफा हो गया है। उदाहरण के लिए इस साल मार्च में 20 साल के लिए 30 लाख रुपये के लिए गए होम लोन के लिए अगर ब्याज दर इस साल अप्रैल में 7% से बढ़कर जनवरी 2023 में 9.25% हो जाती है, तो किस्त 23,258 रुपये से बढ़कर लगभग 27,387 रुपये हो जाएगी। इस तरह इसमें 17.75% की वृद्धि है।  

हालाँकि, यदि अवधि 30 साल की है तो फिर आपकी किस्त में वृद्धि लगभग 23% होगी। साथ ही जिन्होंने फ्लोटिंग रेट के आधार पर लोन लिया है, उनकी किस्त में और बढ़ोतरी होगी, क्योकि ज्यादातर कर्ज लेने वालों के लिए अब लोन की अवधि बढ़ाने का मामला खत्म हो गया है। उन्हें अधिक किस्त ही चुकाना होगा। 

20 साल की लोन अवधि में 13 साल का हुआ इजाफा 

यह मान लिया जाए कि उस समय किसी ने अगर 6 फीसदी पर होम लोन लिया था तो 1.90 फीसदी की बढ़त के बाद उसकी 20 साल की अवधि 13 साल और बढ़ गई। जिन ग्राहकों ने कर्ज अवधि में वृद्धि के बजाय किस्त बढ़ाने का विकल्प चुना, उनकी किस्त में 20 फीसदी की बढ़त हुई है। कम अवधि वाले लोन पर प्रभाव बहुत कम होगा। उदाहरण के लिए, यदि किसी के लोन की अवधि 10 साल है तो उसकी किस्त केवल 9.96 फीसदी ही बढ़ेगी। 

कई कर्जदार जिन्होंने 20-30 साल की अवधि के साथ लंबी अवधि के होम लोन लिए हैं और पिछले रेपो दर में बढ़ोतरी के बाद अपनी अवधि को बढ़ाया है, उनके लिए समय बढ़ाना मुश्किल है। ऐसा इसलिए है क्योंकि बैंक 60 साल की उम्र तक के लिए ही कर्ज देते हैं। हालांकि, जो खुद का कारोबार कर रहे हैं, उनके लिए थोड़ा और ज्यादा समय के लिए कर्ज मिल जाता है। 

जिनके पास 15 साल या उससे कम की अवधि का होम लोन है, वे समय बढ़ा सकते हैं। क्योंकि जब भी ब्याज दरें बढ़ती हैं, बैंक किस्त के बजाय कर्ज की अवधि बढ़ाना पसंद करते हैं। ऐसा इसलिए, क्योंकि उन्हें किस्त की मंजूरी को बदलने की आवश्यकता नहीं होती है। 

यदि आपके पास निवेश है जो आपके होम लोन पर भुगतान की जाने वाली ब्याज दर से कम रिटर्न कमा रहा है, तो कुछ रकम मूलधन के रूप में जमा करना चाहिए। इससे आपकी बढ़ती हुई अवधि पर विराम लग जाएगा। उदाहरण के लिए, प्रत्येक वर्ष कर्ज का 5% भुगतान करते हैं, तो आप 20 साल के लोन को 12 साल में ही चुका सकते हैं। सालाना एक अतिरिक्त किस्त चुकाने से लोन सिर्फ 17 साल में बंद हो सकता है। अगर आप अपनी किस्त हर साल 5% बढ़ाते हैं, तो लोन 13 साल से कम समय में पूरा कर सकते हैं। हर साल किस्त में 10 फीसदी की बढ़ोतरी से लोन दस साल में बंद हो सकता है। 

हालांकि, आपको अपने होम लोन के ब्याज भुगतान और मूलधन के पुनर्भुगतान पर मिलने वाले कर लाभ को ध्यान में रखना होगा। यदि निवेश पर प्रीपेमेंट से ज्यादा ब्याज मिल रहा है तो निवेश को बरकरार रख सकते हैं। होम लोन के अलावा अगर आपने पर्सनल लोन, कंज्यूमर ड्यूरेबल लोन, दोपहिया लोन, पुरानी कार लोन या क्रेडिट कार्ड जैसे महंगे लोन लिए हैं, तो अपने होम लोन को चुकाने के बजाय इन्हीं सबको चुकाना चाहिए। क्योंकि ये कर्ज होम लोन से महंगे होते हैं। 

बैंक आम तौर पर आपके हाथ में आने वाले वेतन का 50% से कम रकम की किस्त रखते हैं। उदाहरण के लिए, यदि किसी व्यक्ति का शुद्ध वेतन 62,000 रुपये है और कोई अन्य कर्ज नहीं चल रहा है। उसने मार्च 2022 में 40 लाख रुपये का होम लोन लिया है। यह कर्ज तब 7% की ब्याज दर और 20 वर्षों की अवधि के लिए लिया गया था। तब इस लोन पर किस्त 31,012 रुपये थी जो शुद्ध वेतन के 50% के करीब थी।  

हालांकि, रेपो दर में 2.25% की बढ़ोतरी के प्रभाव को देखते हुए, जनवरी 2023 में ब्याज दर 9.25% होगी। इससे किस्त 36,485 रुपये हो जाएगी। अगर वेतन स्थिर रहता है तो बढ़ी हुई किस्त का अब 59% भुगतान करना पड़ेगा। ऐसे में यहां तक कि वेतन में 10% की वृद्धि भी बहुत उपयोगी नहीं हो सकती है अगर आपको लगता है कि इस साल वेतन में 10% की अच्छी बढ़ोतरी किस्त की वृद्धि को कवर करने के लिए पर्याप्त होगी, तो जरूरी नहीं कि आप सही हों। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *