अमीरों की संख्या बढ़ रही है तेजी से, लेकिन गरीब और गरीब हो रहा है  

मुंबई- इस साल मुकेश अंबानी देश के सबसे अमीर शख्स का तमगा खो चुके हैं। उनकी जगह अब गौतम अडानी ने ले ली है। लेकिन अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज वैल्यूएशन, रेवेन्यू और मुनाफे जैसे प्रमुख पैरामीटर्स के मामले में टॉप पर है। 2022 बुरुगुंडी प्राइवेट हुरुन इंडिया 500 लिस्ट से यह जानकारी सामने आई है। इस लिस्ट में दूसरे साल भी रिलायंस इंडस्ट्रीज देश की सबसे वैल्यूएबल कंपनी बनी हुई है।  

कंपनी की कुल वैल्यू 17.25 लाख करोड़ रुपये है और कंपनी साल दर साल 3.6 फीसदी की दर से बढ़ रही है। दिलचस्प बात यह है कि इस लिस्ट की टॉप-10 कंपनियों की कुल वैल्यूएशन 72 लाख करोड़ रुपये है और इसमें आरआईएल (RIL) का हिस्सा ही करीब 25 फीसदी है। रिपोर्ट के अनुसार ये 10 कंपनियां भारत की जीडीपी के 37 फीसदी के बराबर हैं। हुरुन इंडिया के अनुसार, रिलायंस इंडस्ट्रीज की वैल्यूएशन ही देश की जीडीपी के 8.9 फीसदी के बराबर है। 

भारत में रहने वाले लोगों की इनकम भी बढ़ी है। देश के छोटे शहरों से भी अब सुपर रिच लोग निकल रहे हैं। देश में अमीरों की संख्या में भी लगातार इजाफा हो रहा है। लेकिन इन सबके बावजूद देश के अमीर और गरीब राज्यों के बीच की खाई अभी भर नहीं पाई है। देश के जो राज्य अमीर हैं वो और अमीर होते जा रहे हैं। वहीं गरीब राज्य अभी भी गरीब ही बने हुए हैं। देश के पूर्वी और मध्य क्षेत्र जहां पर देश की करीब आधी आबादी रहती है। इसका कुल मिलाकर राष्ट्रीय आय केवल 29 फीसदी हिस्सा है। पूर्व आय का सबसे कम हिस्सा जनरेट करना है। आर्थिक अनुसंधान संगठन पीपल रिसर्च ऑन इंडियाज कंज्यूमर इकोनॉमी के सर्वे में ये आंकड़े सामने आए हैं। इस सर्वे के मुताबिक इसके विपरीत, दक्षिण राज्य देश की आबादी के पांचवें हिस्से के साथ 30 फीसदी की डिस्पोजेबल आय उत्पन्न करता है। 

आर्थिक अनुसंधान संगठन पीपल रिसर्च ऑन इंडियाज कंज्यूमर इकोनॉमी (प्राइस) के सर्वे के मुताबिक, अमीर राज्यों की तुलना में देखें तो बिहार, झारखंड और ओडिसा जैसे राज्यों का बुरा हाल है। छह जोनल काउंसिल में ये राज्य देश की कुल इनकम का सिर्फ 14 फीसदी ही उत्पन्न करते हैं। ये सबसे कम इनकम जनरेट करने वाले राज्यों में शामिल हैं। वहीं प्रति व्यक्ति आय के मामले में उत्तर-प्रदेश, उत्तराखंड, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ जैसे राज्य शामिल हैं।  

आंकड़ों के मुताबिक, पूरे देश में करीब 45.2 मिलियन परिवार निराश्रित हैं। इनमें से राज्यों की बात करें तो बिहार निराश्रित परिवारों की संख्या के मामले में पहले स्थान पर है। यहां पर निराश्रित परिवारों की संख्या 7.4 मिलियन है। बिहार के बाद निराश्रित परिवारों के मामले में उत्तर-प्रदेश का नंबर आता है। यहां पर 6.1 मिलियन परिवार निराश्रित हैं। इसके बाद वेस्ट बंगाल में 5 मिलियन, एमपी में 4.3 मिलियन, ओडिशा में 2.6 मिलियन, तमिलनाडू में 2.5 मिलिनयन, महाराष्ट में 2.4 और छत्तीसगढ़, झारखंड और आंध्रप्रदेश में निराश्रित परिवारों की संख्या 2 मिलियन है। 

11.68 लाख करोड़ रुपये की वैल्यू के साथ टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) इस लिस्ट में दूसरे स्थान पर है। साथ ही टीसीएस 5,92,195 नौकरियों के साथ देश का सबसे बड़ा नियोक्ता भी है। अर्थात इस लिस्ट में मौजूद कंपनियों में से सबस ज्यादा लोगों को नौकरियां टीसीएस ने दी हुई है। रिलायंस इंडस्ट्रीज पिछले पांच वर्षों में एक सबसे बेहतर वैल्यू क्रिएटर्स के रूप में भी उभरा है। इस अवधि के दौरान कंपनी की वैल्यू 10.52 लाख करोड़ रुपये बढ़ी है। दूसरी तरफ, टीसीएस की वैल्यू इस अवधि में 4.4 लाख करोड़ बढ़ी है। 

2022 बुरगुंडी प्राइवेट हुरुन इंडिया 500 लिस्ट में रेवन्यू के हिसाब से भी टॉप 10 कंपनियों की लिस्ट दी गई है। इस लिस्ट में रिलायंस इंडस्ट्रीज टॉप पर है। इसके बाद टाटा मोटर्स, टाटा स्टील, राजेश एक्सपोर्ट्स, हिंडाल्को इंडस्ट्रीज, टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, लार्सन एंड टुब्रो, आईसीआईसीआई बैंक और जेएसडबल्यू स्टील का नाम है। 

2022 बुरगुंडी प्राइवेट हुरुन इंडिया 500 लिस्ट में मुनाफे के आधार पर भी टॉप-10 कंपनियों की लिस्ट जारी की गई है। इस लिस्ट में भी रिलायंस इंडस्ट्रीज टॉप पर है। इसके बाद टाटा स्टील, टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी, वेदांता, इंफोसिस, जेएसडब्ल्यू स्टील और आईटीसी का स्थान है। 

2022 बुरगुंडी प्राइवेट हुरुन इंडिया 500 लिस्ट में कंपनियों में वैल्यूएशन के बदलाव पर भी टॉप-10 कंपनियों की लिस्ट जारी की है। इस लिस्ट में टॉप-4 पर सिर्फ अडानी की कंपनियां हैं। इसका मतलब है कि अडानी की कंपनियों की वैल्यूएशन सबसे अधिक बढ़ी है। पहले स्थान पर अडानी टोटल गैस है, जिसकी वैल्यू में 2,34,012 करोड़ रुपये का इजाफा हुआ है। इसके बाद दूसरे स्थान पर अडानी एंटरप्राइजेज, अडानी ट्रांसमिशन, अडानी ग्रीन एनर्जी, आईटीसी, भारती एयरटेल, अडानी पावर, रिलायंस इंडस्ट्रीज और महिंद्रा एंड महिंद्रा का स्थान है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *