महंगाई से बेहतर तरीके से निपटने में सफल होगा भारत- वित्तमंत्री सीतारमण 

मुंबई- वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को भरोसा जताया कि भारत महंगाई से बेहतर तरीके से निपटने में सफल होगा। भारत पहले ही खाद्य कीमतों पर आपूर्ति पक्ष के दबाव के रूप में एक बहुत अच्छा ढांचा तैयार कर चुका है। खुदरा महंगाई जनवरी से रिजर्व बैंक के 6 फीसदी के स्तर से ऊपर बनी हुई है। एक कार्यक्रम में वित्त मंत्री ने यह भी स्वीकार किया कि कच्चे तेल जैसी वस्तुओं के आयात के कारण महंगाई बनी रहने वाली है।

उन्होंने कहा, हम शायद महंगाई को बेहतर तरीके से संभालने में सफल होंगे। आरबीआई के संकेत इसे नीचे की ओर बता रहे हैं और अगले साल की शुरुआत या मध्य तक यह उसके बैंड के दायरे में होगी। सीतारमण ने कहा कि महंगाई बाहरी कारकों से प्रभावित होने वाली है, लेकिन भारत के भीतर हम कृषि आपूर्ति और ऊर्जा के मामले में बेहतर हैं। मैं एक अच्छी, तेजी से बढ़ती भारतीय अर्थव्यवस्था और अगले साल की बेहतरी की उम्मीद कर रही हूं।

मुख्य आर्थिक सलाहकार वी अनंत नागेश्वरन ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था चालू वित्त वर्ष में 6.8-7 फीसदी जीडीपी वृद्धि हासिल करने के रास्ते पर है। आर्थिक सुधार की गति जारी है और जीडीपी 2019-20 के औसत स्तर पर है। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने इस वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था के 6.8 फीसदी की दर से बढ़ने का अनुमान लगाया है, जबकि आरबीआई ने इसे 7 फीसदी पर आंका है। भारत की आर्थिक वृद्धि दर पहली छमाही में भारत की अर्थव्यवस्था में 9.7 फीसदी की वृद्धि हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *