मच्छर के काटने से जा सकते हैं कोमा में, बीमारियों के कारण होगा ऑपरेशन 

मुंबई- मच्छर के काटने पर मलेरिया और डेंगू जैसी बीमारियां होना आम बात है, लेकिन हाल ही में जर्मनी में एक ऐसा मामला सामने आया, जो अनोखा होने के साथ डरावना भी है। यहां 27 साल का एक शख्स मच्छर के काटने के बाद कोमा में चला गया। इतना ही नहीं, उसे 30 ऑपरेशन भी कराने पड़े। 

दरअसल, रोडरमार्क में रहने वाले सेबास्टियन रोत्श्के को एशियन टाइगर प्रजाति के मच्छर ने काटकर मौत के मुंह में पहुंचा दिया। यह मामला साल 2021 की गर्मियों का है। जब मच्छर के काटने पर सेबास्टियन को फ्लू के लक्षण आने लगे। वे डॉक्टर के पास पहुंचे। उनकी हालत धीरे-धीरे खराब होती गई। न वे बिस्तर से उठ पा रहे थे, न ही उनसे कुछ खाया जा रहा था। 

इसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया। डेली स्टार की रिपोर्ट के मुताबिक मच्छर ने सेबास्टियन के खून में जहर फैला दिया था। इसका इन्फेक्शन इतना खतरनाक था कि सेबास्टियन की बाईं जांघ लगभग 50% सड़ गई। साथ ही लिवर, किडनी, फेफड़ों और दिल ने भी कई मौकों पर काम करना बंद कर दिया। 

जर्मनी के सेबास्टियन रोत्श्के मच्छर के काटने के चलते 4 हफ्ते तक कोमा में रहे। 

रिपोर्ट के मुताबिक सेबास्टियन ब्लड पॉइजनिंग के चलते 4 हफ्ते तक कोमा में रहे। वहीं, अपने पैर को ठीक करने के लिए उन्हें 30 सर्जरी करानी पड़ीं। इसमें उनके पैर की दो उंगलियां भी आधी काटनी पड़ीं। टेस्ट रिपोर्ट में सामने आया कि सेरेशिया मार्सेसेंस नाम के बैक्टीरिया ने उनकी जांघ खा ली थी। सेबास्टियन का कहना है कि चूंकि वे विदेश नहीं गए थे, इसलिए उन्हें स्थानीय मच्छर ने ही काटा है। फिलहाल उनकी रिकवरी जारी है। 

एशियन टाइगर मच्छर का साइंटिफिक नाम एडीज अल्बोपिक्टस (Aedes Albopictus) है। यह दक्षिण पूर्वी एशिया के ट्रॉपिकल और सब-ट्रॉपिकल इलाकों में पाया जाता है। इसलिए इसे जंगली मच्छर भी कहते हैं। पिछले कुछ सालों से यह खतरनाक जीव यूरोप के कई देशों में भी पाया जा रहा है। जीका वायरस, वेस्ट नाइल वायरस, चिकनगुनिया और डेंगू बुखार फैलाने वाले दूसरे मच्छरों की तरह यह मच्छर भी दिन में वार करता है। 

यदि टाइगर मच्छर में कोई वायरस या बैक्टीरिया है, तो आप संक्रमण के प्रमुख लक्षण पहचान सकते हैं। इनमें तेज पेट दर्द, उल्टी, सिर चकराना, बुखार, सांस लेने में दिक्कत, नाक और मसूड़ों से खून निकलना, थकान, बेचैनी, लिवर में सूजन, उल्टी या मल में खून आना, आंखों में दर्द, सिर दर्द और स्किन एलर्जी शामिल हैं।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *