विदेशों में रुपये में कारोबार के लिए बैंक प्रमुखों से वित्त मंत्रालय करेगा चर्चा 

मुंबई- अमेरिकी डॉलर के बजाय रुपए में सीमा पार व्यापार को बढ़ावा देने के लिए वित्त मंत्रालय पांच दिसंबर को बैंकों के प्रमुखों से मुलाकात करेगा। इसमें निजी क्षेत्र के 6 बड़े बैंक भी शामिल होंगे। बैठक में अमेरिकी डॉलर के बजाय रुपए में सीमा पार व्यापार को बढ़ावा देना।  

विदेश और वाणिज्य मंत्रालयों के वरिष्ठ अधिकारियों सहित अन्य संबंधित लोगों द्वारा भाग लेने वाली बैठक में इस मोर्चे पर अब तक हुई प्रगति की समीक्षा भी की जाएगी। वित्तीय सेवा सचिव विवेक जोशी बैठक की अध्यक्षता करेंगे। साथ ही भारतीय रिजर्व बैंक और भारतीय बैंक संघ (आईबीए) के प्रतिनिधि भी शामिल हो सकते हैं। 

जुलाई में घरेलू मुद्रा में सीमा पार व्यापार लेनदेन पर भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के विस्तृत दिशानिर्देशों के बाद रुपये में विदेशी व्यापार की सुविधा के लिए दो भारतीय बैंकों के साथ लगभग नौ विशेष वोस्ट्रो खाते खोले गए हैं। इसमें रूस के एसबीईआर और वीटीबी बैंक मंजूरी पाने वाले पहले बैंक हैं। साथ ही एक अन्य रूसी बैंक गज़प्रोम, जिसकी भारत में शाखा नहीं है, उसने भी यूको बैंक के साथ यह खाता खोला है। 

विशेष वास्ट्रो खाता खोलने के कदम से भारत और रूस के बीच व्यापार के लिए रुपये में भुगतान के निपटान का रास्ता साफ हो गया है। इससे भारतीय मुद्रा में सीमा पार कारोबार सक्षम हो गया है, जिसे आरबीआई बढ़ावा देना चाहता है। इस तंत्र के माध्यम से आयात करने वाले भारतीय आयातक रुपये में भुगतान करेंगे, जिसे विदेशी आपूर्तिकर्ता से माल या सेवाओं की आपूर्ति के लिए चालान के एवज में भागीदार देश के बैंक के विशेष वोस्ट्रो खाते में जमा किया जाएगा। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *