आयकर भरने के बदले तरीके, अब इन बैंकों से नहीं भर सकते हैं आईटीआर 

मुंबई- इनकम टैक्स भरने का तरीका बदल रहा है। इसमें काफी बदलाव आया है। अब ज्यादातर लोग इनकम टैक्स ऑनलाइन बैंकिंग के माध्यम से ही भर देते हैं। कुछ बैंक ऐसे हैं जिनमें अगर आपका अकाउंट है तो आप इनसे अपना इनकम टैक्स नहीं भर पाएंगे। इसलिए जरूरी है कि ऑनलाइन इनकम टैक्स भरने से पहले इस बात की जानकारी कर लें।  

देख लें कि जिस बैंक में आपका खाता है उसके जरिए आप ऑनलाइन इनकम टैक्स भर पाएंगे या नहीं। यहां हम आपको ऐसे बैंकों की पूरी लिस्ट देने जा रहे हैं जिनमें अगर आपका खाता है तो आप ऑनलाइन इनकम टैक्स नहीं भर पाएंगे। 

दरअसल नए आयकर ई-फाइलिंग पोर्टल ने पोर्टल पर ही ई-पे टैक्स विंडो की सेवा के माध्यम से करों के भुगतान की अनुमति देना शुरू कर दिया है। ऐसे में विशिष्ट बैंकों के ग्राहक जो टिन एनएसडीएल वेबसाइट से इस सिस्टम में माइग्रेट हो गए हैं, उन्हें अब अपने आयकर का भुगतान करने के लिए ई-फाइलिंग आयकर पोर्टल पर जाना होगा। ऐसे में जरूरी है कि अगर आप ऑनलाइन इनकम टैक्स भरते हैं तो देख लें कि जिस बैंक में आपका खाता है, उसने अपना कर भुगतान सुविधा मार्ग बदल दिया है या स्थानांतरित कर दिया है या नहीं।  

कुछ विशिष्ट बैंकों के ग्राहक जो टिन एनएसडीएल वेबसाइट से इस सिस्टम में माइग्रेट हो गए हैं, उन्हें अब अपने इनकम टैक्स का भुगतान करने के लिए ई-फाइलिंग आयकर पोर्टल पर जाना होगा। 

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड के निर्देशों के मुताबिक, कई बैंकों को टिन एनएसडीएल वेबसाइट पर ओएलटीएएस ई-पेमेंट ऑफ टैक्स सुविधा से स्विच करना होगा। यह अधिकारियों द्वारा एक अच्छा कदम है। इससे लोग टैक्स भरने के लिए विभिन्न प्लेटफार्मों पर जाने के बजाय एक पोर्टल पर ही सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे। 

एनएसडीएल पोर्टल पर इनकम टैक्स भरने के लिए अब ये बैंक नहीं है उपलब्ध 

1- एक्सिस बैंक 

2- सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया 

3- आईसीआईसीआई बैंक 

4- इंडियन बैंक 

5- करूर वैश्य बैंक 

6- बैंक ऑफ महाराष्ट्र 

7- केनरा बैंक 

8- इंडियन ओवरसीज बैंक 

9- बैंक ऑफ इंडिया 

10- फेडरल बैंक 

11- कोटक महिंद्रा बैंक 

हो सकता है कि बैंकों ने अपने ग्राहकों को इस बदलाव के बारे में जानकारी दे दी हो। आईसीआईसीआई बैंक ने अपने ग्राहकों को एक एसएमएस भेजकर ऐसा किया जिसमें कहा गया है कि आयकर विभाग ने प्रत्यक्ष कर के भुगतान के लिए आईसीआईसीआई बैंक को नए कर सूचना नेटवर्क संस्करण 2.0 में स्थानांतरित कर दिया है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *