फेड रिजर्व के फैसले के बाद रुपया 90 पैसे टूटकर सार्वकालिक निचले स्तर पर 

मुंबई। डॉलर के मुकाबले रुपया बृहस्पतिवार को 90 पैसे टूटकर 80.86 के सार्वकालिक निचले स्तर पर बंद हुआ। अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व की ओर से नीतिगत दरें लगातार तीसरी बार बढ़ाने और आगे भी आक्रामक रुख बनाए रखने के संकेत से निवेशकों की धारणा प्रभावित हुई। इससे रुपये में बड़ी गिरावट आई। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 80.27 पर खुला। दिन के कारोबार में यह और गिरकर 80.95 के सार्वकालिक निचले स्तर पर पहुंच गया। छह मुद्राओं की तुलना में डॉलर की मजबूती दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.38 फीसदी बढ़कर 110.06 पर पहुंच गया। 

एचडीएफसी सिक्योरिटीज के शोध विश्लेषक दिलीप परमार ने कहा कि फेड रिजर्व के ब्याज दरों में 0.75 फीसदी की बढ़ोतरी से डॉलर में तेजी आई। इससे अन्य एशियाई मुद्राओं की तरह रुपया भी रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंच गया। उन्होंने कहा कि घरेलू अर्थव्यवस्था में मजबूती आने के बाद भी रुपये में गिरावट का मौजूदा रुख जारी रह सकता है। इससे पहले ब्या दरें बढ़ाने के बाद अमेरिकी फेड रिजर्व के चेयरमैन जेरोम पॉवेल ने कहा, महंगाई पर काबू पाने के लिए आक्रामक रुख जारी रहेगा। जानकारों का कहना है कि नवंबर में होने वाली बैठक में भी फेड रिजर्व एक बार फिर ब्याज दरों में 0.75 फीसदी बढ़ोतरी कर सकता है। 

घरेलू शेयर बाजार बृहस्पतिवार को लगातार दूसरे दिन गिरावट के साथ बंद हुआ। अमेरिकी केंद्रीय बैंक के नीतिगत दर में वृद्धि करने के बाद वैश्विक बाजारों में आई कमजोरी से भारतीय बाजारों में गिरावट आई। सेंसेक्स 337.06 अंक टूटकर 59,119.72 पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान एक समय यह 624 अंक तक नीचे चला गया था। निफ्टी भी 88.55 अंक लुढ़ककर 17,629.80 पर बंद हुआ। बाजार में गिरावट में सेंसेक्स की 30 में 18 कंपनियों के शेयर लाल निशान में बंद हुआ। 12 कंपनियों के शेयरों में तेजी रही। पावरग्रिड सर्वाधिक 2.80 फीसदी नुकसान में रहा। एशियाई बाजारों में कॉस्पी, निक्केई, शंघाई कंपोजिट और हैंगसेंग नुकसान में रहे। यूरोपीय और अमेरिकी बाजारों में भी गिरावट का रुख रहा। 

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, भारतीय शेयर बाजार सीमित गिरावट के साथ अपनी मजबूती को बनाए रखने में कामयाब रहा। लेकिन, रुपये में गिरावट जारी रही तो घरेलू बाजार विदेशी निवेशकों के लिए अल्पकाल में कम आकर्षक होगा। उसका असर बाजार पर पड़ेगा। 

दिल्ली सराफा बाजार में बृहस्पतिवार को सोना 442 रुपये महंगा होकर 50,399 रुपये प्रति 10 ग्राम रहा। वैश्विक बाजार में बहुमूल्य धातुओं की कीमतों में उछाल और रुपये में बड़ी गिरावट से पीली धातु को समर्थन मिला। चांदी 558 रुपये महंगी होकर 58,580 रुपये प्रति किलोग्राम के भाव रही। पिछले कारोबारी सत्र में सोना 49,957 रुपये प्रति 10 ग्राम और चांदी 58,022 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई थी। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के वरिष्ठ विश्लेषक (कमोडिटी) तपन पटेल ने कहा कि डॉलर सूचकांक के अपने 20 साल के उच्च स्तर से नीचे आने के बाद सोना शुरुआती नुकसान की भरपाई कर लाभ में पहुंच गया। । 

Leave a Reply

Your email address will not be published.