स्पाइसजेट ने 80 पायलटों को बिना वेतन 3 महीने की छुट्‌टी पर भेजा 

मुंबई- स्पाइसजेट ने 80 पायलटों को बिना वेतन (LWP) के तीन महीने के लिए छुट्टी पर भेज दिया है। स्पाइसजेट इस समय लिक्विडिटी की कमी का सामना कर रही है। कंपनी की पॉलिसी के अनुसार किसी भी कर्मचारी को निकाला नहीं जाता है इसी कारण उसने ये फैसला लिया है। कंपनी ने कहा कि कुछ पायलटों को बिना वेतन छुट्टी पर भेजने के बाद भी ऑपरेशन के लिए उसके पास पर्याप्त संख्या में पायलट है। 

सूत्रों ने कहा कि एयरलाइन ने लगभग चालीस B737 विमान पायलटों और लगभग चालीस Q400 विमान पायलटों को तीन महीने के लिए बिना वेतन के छुट्टी पर भेजा है। एयरलाइन पिछले 4 साल से घाटे में चल रही है। स्पाइसजेट को वित्त वर्ष 2019, 2020, 2021 और वित्तवर्ष 2022 में क्रमशः 316 करोड़ रुपए, 934 करोड़ रुपए, 998 करोड़ रुपए और 1,725 करोड़ रुपए का घाटा हुआ है। 

30 जून को समाप्त तिमाही में स्पाइसजेट को 784 करोड़ रुपए का घाटा हुआ, जबकि एक साल पहले की समान तिमाही में 731 करोड़ का घाटा हुआ था। मार्च को समाप्त तिमाही में कंपनी को 485 करोड़ का घाटा हुआ था। इसके अलावा यह वर्तमान में 50 प्रतिशत से कम उड़ानों का संचालन कर रहा है, जबकि एयरलाइन के बेड़े में 90 विमान हैं। अभी करीब 50 विमान ऑपरेट किए जा रहे हैं। 

स्पाइसजेट ने एक बयान में कहा कि उसने 2019 में 737 मैक्स विमानों की ग्राउंडिंग के बाद भी एयरलाइन ने अपने नियोजित पायलट इंडक्शन प्रोग्राम को इस उम्मीद में जारी रखा था कि मैक्स जल्द ही सेवा में वापस आ जाएगा। हालांकि, मैक्स बेड़े के लंबे समय तक ग्राउंडिंग के कारण स्पाइसजेट में बड़ी संख्या में अतिरिक्त पायलट है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.