टाटा को पीछे छोड़ देश का सबसे बड़ा समूह बना अदाणी

-अदाणी की कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 21.99 लाख -करोड़, टाटा समूह का पूंजीकरण 20.70 लाख करोड़

नई दिल्ली। दुनिया में तीसरे नंबर के सबसे अमीर कारोबारी बनने के बाद अदाणी समूह बाजार पूंजीकरण के लिहाज से देश का सबसे बड़ा समूह बन गया है। शुक्रवार को इस समूह का कुल पूंजीकरण 21.99 लाख करोड़ रुपये हो गया जबकि टाटा की कंपनियों को पूंजीकरण 20.70 लाख करोड़ रुपये रहा। तीसरे नंबर पर मुकेश अंबानी का रिलायंस समूह है जिसका पूंजीकरण 17.22 लाख करोड़ रुपये है। अदाणी की कुल 9 कंपनियां शेयर बाजार में सूचीबद्ध हैं जबकि टाटा की 28 कंपनियां हैं। रिलायंस की 10 कंपनियां सूचीबद्ध हैं।

अदाणी समूह ने इसी साल 22 अगस्त को रिलायंस को पीछे छोड़ा था। उस समय अदाणी की कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 19.73 लाख करोड़ रुपये था जबकि रिलायंस का 17.82 लाख करोड़ रुपये था। टाटा का 22.05 लाख करोड़ रुपये था। चौथे स्थान पर एचडीएफसी समूह है और इसकी 5 कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 14.23 लाख करोड़ रुपये है। पांचवें पर आईसीआईसीआई समूह है और इसकी कुल चार कंपनियों का पूंजीकरण 7.89 लाख करोड़ रुपये है।

दरअसल, अदाणी समूह ने शुक्रवार को ही एसीसी और होल्सिम के अधिग्रहण को पूरा करने की घोषणा की। इस कारण इसके पूंजीकरण में अचानक 1.51 लाख करोड़ की वृद्धि हुई। एसीसी का बाजार पूंजीकरण 49,100 करोड़ रुपये और अंबुजा सीमेंट का पूंजीकरण 1.02 लाख करोड़ रुपये है। इसकी दो कंपनियों का पूंजीकरण 4 लाख करोड़ से ज्यादा है। इसमें अदाणी एंटरप्राइजेज का 4.07 लाख करोड़ और अदाणी ट्रांसमिशन का 4.49 लाख करोड़ रुपये है।

दो कंपनियों का पूंजीकरण 3-3 लाख करोड़ से ऊपर

अदाणी की अदाणी ग्रीन का पूंजीकरण 3.62 लाख करोड़ जबकि अदाणी टोटल गैस का 3.87 लाख करोड़ रुपये है। अदाणी पोर्ट करीब 2 लाख करोड़ रुपये जबकि अदाणी विल्मर 93 हजार करोड़ वाली कंपनी है।

बाजार पूंजीकरण के लिहाज से रिलायंस इंडस्ट्रीज सबसे बड़ी है जो 16.91 लाख करोड़ रुपये की है। उसके बाद टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेस (टीसीएस) है जिसका पूंजीकरण 11 लाख करोड़ रुपये है। तीसरे स्थान पर एचडीएफसी बैंक है और इसका पूंजीकरण 8.29 लाख करोड़ रुपये है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.