भारत तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था, बैंकिंग सिस्टम अच्छा  

मुंबई- आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि पिछले हफ्ते यूएस फेड के जैक्सन होल शिखर सम्मेलन के बाद से बाजार बेहद अस्थिर और अनिश्चित हो गए हैं। हमारी बैंकिंग प्रणाली की सेहत अच्छी है और बाहरी प्रतिकूल परिस्थितियों से किसी भी तरह के नकारात्मक प्रभाव को रोकने में सक्षम है।

मुंबई में फिक्स्ड इनकम मनी मार्केट और डेरिवेटिव्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया की एनुअल गैदरिंग को संबोधित करते हुए दास ने कहा कि बैंकिंग सिस्टम को मजबूत बनाने के लिए सरकार ने पहले से ही कई कदम उठाए हैं। 26 अगस्त की स्थिति के अनुसार भारत का मुद्रा भंडार 561 अरब अमेरिकी डॉलर है, जो बाहरी झटकों को रोकने का काम करेगा। हमारी बैंकिंग प्रणाली अच्छी तरह से पूंजीकृत है। आगे चलकर हमारी मौद्रिक नीति चौकस, तेज और कैलिब्रेटेड होगी। 

उन्होंने बताया कि सरकार सॉवरेन ग्रीन बांड जारी करने पर काम कर रही है। शक्तिकांत दास ने कहा कि भारतीय रुपए में 5.1 % की गिरावट आई है जो दुनिया में सबसे कम है। आरबीआई नियमित रूप से बाजार में तरलता और विश्वास प्रदान करता है। हमारा हस्तक्षेप मोटे तौर पर अत्यधिक अस्थिरता को रोकने और अपेक्षाओं को स्थिर करने पर आधारित है। 

भारत को व्यापक रूप से 2022 में दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था माना गया है। जब अन्य प्रमुख अर्थव्यवस्थाएं वास्तव में मंदी या अपनी विकास गति में काफी कमी का सामना कर रही हैं भारत ने तेज गति दिखाई है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.