अटल पेंशन योजना और एनपीएस में यूपीआई से कर सकते हैं भुगतान 

मुंबई- अब आप अटल पेंशन योजना और नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) में यूपीआई से भी पैसे जमा कर सकेंगे। यूपीआई यानी कि यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस रियल टाइम में पैसे जमा करने की सुविधा देता है। इसलिए आपको एनपीएस या अटल पेंशन स्कीम में पैसे जमा करने और स्थित जानने की टेंशन नहीं लेनी होगी।  

इन दोनों योजनाओं को चलाने वाली संस्था पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ने पैसे जमा करने के लिए एक यूपीआई हैंडल की शुरुआत की है। इसी यूपीआई हैंडल से डी-रिमीट की मदद से एनपीएस और अटल पेंशन योजना (APY) में पैसा जमा किया जा सकेगा। 

अभी तक एनपीएस और एपीवाई स्कीम में नेट बैंकिंग से ही पैसा जमा किया जा सकता था। नेट बैंकिंग में आईएमपीएस, एनईएफटी या आरटीजीएस की मदद से पैसा जमा कराया जाता था। अब इसमें यूपीआई की नई सुविधा जोड़ दी गई है. इसकी मदद से ग्राहक रियल टाइम में खाते में पैसे जमा कर सकेंगे और तुरंत उन्हें स्टेटस का भी पता चल जाएगा। 

आपको एनपीएस और एपीवाई में पैसे जमा करने के लिए पहले वर्चुअल अकाउंट बनाना होगा। उसके बाद ही यूपीआई से पैसे जमा किए जा सकेंगे। सेंट्रल रिकॉर्डकीपिंग एजेंसी (सीआरए) सिस्टम पर जाएं और ईएनपीएस वेबसाइट पर लॉग ऑन करें। स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्या (पीआरएएन) को वेरिफाई करने के लिए विवरण भरे। मोबाइल पर प्राप्त ओटीपी दर्ज करें और उस खाते (टियर 1 या II) का चयन करें जिसके लिए वर्चुअल खाता बनाना है। 

पीएफआरडीए के मुताबिक डी-रिमीट के लिए यूपीआई हैंडल शुरू किया गया है जिसका पता है-PFRDA.15digitVirtualAccount@axisbank. पीएफआरडीए ने बताया है कि सुबह 9.30 बजे से पहले यूपीआई से पैसा जमा किया जाएगा तो उसे उसी दिन के पेमेंट में गिना जाएगा। अगर 9.30 बजे सुबह के बाद एनपीएस या एपीवाई में पैसे जमा कराए गए, तो उसे अगले दिन का निवेश माना जाएगा। 

पीएफआरडीए दो तरह की पेंशन स्कीम चलाता है। इसमें नेशनल पेंशन सिस्टम यानी कि एनपीएस और अटल पेंशन योजना शामिल है। एनपीएस संगठित क्षेत्र में काम करने वालों के लिए है जबकि एपीवाई में गैर-संगठित क्षेत्र के कर्मचारी भी फायदा उठा सकते हैं। एनपीएस की शुरुआत 2003 में की गई। जिन केंद्रीय कर्मचारियों की जॉइनिंग 1 जनवरी 2004 से है, उन्हें एनपीएस में शामिल होना जरूरी है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.