विद्वानों, शिक्षकों और मेहमानों पर भी 18 फीसदी लगेगा जीएसटी  

मुंबई- अतिथि शिक्षक, अतिथि विद्वान और दूसरे कार्यक्रमों में आने वाले लाइफ स्टाइल गुरु और कवि, जो सालाना 20 लाख रु. से ज्यादा कमाते हैं, उन्हें अब आयकर के अलावा 18% जीएसटी भी देना होगा। पहले जीएसटी नहीं लगता था। इसके अलावा सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट से शोधित पानी अब प्यूरीफाइड पानी की श्रेणी से बाहर रहेगा। इस पर 18% जीएसटी हटा लिया गया है।  

यदि किसी अतिथि विद्वान या कवि की आय 25 लाख रु. है तो उसे इनकम टैक्स और सेस के रूप में 5.07 लाख रु. देना पड़ते है, लेकिन अब उसे 18% जीएसटी के रूप में 90 हजार रुपए और देना होंगे। यानी कुल मिलाकर 5.97 लाख र. टैक्स के रूप में कट जाएगा। 

जीएसटी के केंद्रीय बोर्ड ने सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडायरेक्ट टैक्स एंड कस्टम ने एक ताजा स्पष्टीकरण में यह बात कही है। इस स्पष्टीकरण से बिल्डिंग निर्माण की लागत में कमी आएगी। क्योंकि, बिना मिरर पॉलिश वाले नेपा स्टोन पर जीएसटी 18% से घटाकर 5% कर दिया है। 

बिना बैटरी के बेचे जाने वाले इलेक्ट्रिक वाहन भी सस्ते होंगे। इन पर जीएसटी 28% से घटाकर केवल 5% कर दिया है। बैटरी के साथ बेचे जाने वाले वाहनों पर पहले भी 5% ही जीएसटी लग रहा था। अब भी इतना ही लगेगा। सरकार ने बैटरी और बिना बैटरी के साथ वाहन खरीदना खरीदार की मर्जी पर छोड़ दिया है। 

टोल पर बिना फास्टैग वाले वाहन चालकों को राहत मिलेगी। फास्टैग का उपयोग न करने वाले वाहन चालकों को टोल टैक्स के अलावा भी पैसा देना पड़ता है। इस भुगतान पर 18% जीएसटी देना पड़ रहा था। अब सरकार ने यह टैक्स हटा लिया है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.