कच्चे तेल की कीमतें घटने से पेट्रोल पर मुनाफा कमाने लगीं कंपनियां 

मुंबई- हाल के समय में कच्चे तेल का भाव 6 महीने के निचले स्तर पर आने से घरेलू तेल कंपनियों को अब पेट्रोल पर मुनाफा होने लगा है। हालांकि डीजल पर अभी भी इनको घाटा हो रहा है। कच्चे तेल की कीमतें इस समय 94.91 बैरल डॉलर पर आ गई हैं जो कुछ समय पहले तक 120 डॉलर बैरल थीं। कीमतों में गिरावट का सीधा असर तेल कंपनियों की बैलेंसशीट पर दिख रहा है।  

इंडियन ऑयल को जहां अब पेट्रोल पर फायदा होने लगा है, वहीं डीजल पर अभी भी घाटा है। इसके साथ भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम पिछले 4 महीने से तेल की कीमतों को स्थिर रखी हैं। जिसकी वजह से उनको हर लीटर पेट्रोल पर 14-18 रुपये और डीजल पर 20-25 रुपये का घाटा होता था। 

तेल कंपनियों का कहना है कि डीजल पर अभी भी 4 से 5 रुपये हर लीटर पर घाटा हो रहा है। हालांकि पहले का जो घाटा है, उसे पूरा करना तेल कंपनियों के लिए अभी मुश्किल है। क्योंकि लंबे समय से वे लागत से कम कीमत पर तेल की बिक्री कर रही हैं। मार्च में इन कंपनियों ने लंबे समय के बाद 10 रुपये पेट्रोल और डीजल पर हर लीटर के पीछे बढ़ोतरी की थीं। 

7 अप्रैल से कीमतों में कोई बदलाव नहीं हुआ है। दिल्ली में इस समय पेट्रोल का भाव 96.72 रुपये और डीजल का दाम 89.62 रुपये लीटर है। अप्रैल में पेट्रोल 105.41 और डीजल 96.67 रुपये लीटर था। कीमतों में गिरावट इसलिए आई क्योंकि सरकार ने एक्साइज ड्यूटी में कटौती की थी। जून तिमाही में तीन प्रमुख तेल कंपनियों को 18,480 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.