फॉर्च्यून 500 में पहली बार एलआईसी, रिलायंस 104 स्थान पर 

मुंबई- देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) पहली बार फॉर्च्यून 500 की सूची में जगह बनाई है। यह 98वें स्थान पर है। शेयर बाजार में इसी साल यह सूचीबद्ध हुई है। इसका राजस्व 97.26 अरब डॉलर है जबकि फायदा 53.3 करोड़ डॉलर है।  

मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज लि. (आरआईएल) 51 स्थान उछलकर 104 स्थान पर पहुंच गई है। पिछले वित्तवर्ष में इसका राजस्व 93.98 अरब डॉलर रहा। जबकि शुद्ध फायदा 8.15 अरब डॉलर रहा। यह पिछले 19 साल से इस सूची में है। फॉर्च्यून 500 में देश की कुल 9 कंपनियां हैं। इसमें से 5 सरकारी और 4 निजी क्षेत्र की हैं। 

इस सूची में भारतीय कंपनियों में रिलायंस से पहले एलआईसी है। जबकि इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (आईओसी) 28 स्थान की छलांग लगाकर 142 पर पहुंच गई है। ऑयल एवं नेचुरल गैस कॉरपोरेशन (ओएनजीसी) 16 स्थान उछलकर 190 पर पहुंच गई है। इस सूची में टाटा समूह की दो कंपनियां हैं। इसमें टाटा मोटर्स 370 स्थान पर और टाटा स्टील 435 स्थान पर है। 

देश का सबसे बड़ा बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) इस सूची में 236 स्थान पर है। उसे 17 स्थान का फायदा मिला है। भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लि (बीपीसीएल) 295 स्थान पर काबिज है। निजी क्षेत्र की राजेश एक्सपोर्ट 430 रैंक पर है। शीर्ष स्थान पर अमेरिका की रिटेल कंपनी वालमार्ट है। यह लगातार 9 साल से से पहले रैंक पर काबिज है। चीन की 3 कंपनियां पहले पांच में हैं।   

फॉर्च्यून 500 में रैंकिंग कंपनियों के पिछले वित्तवर्ष में राजस्व के आधार पर तय होती है। इस सूची में 500 कंपनियों का कुल राजस्व 37.8 लाख करोड़ डॉलर रहा है। एक साल पहले की तुलना में इसमें 19 फीसदी की बढ़त हुई है। इस सूची के इतिहास में किसी एक साल में राजस्व के लिहाज से यह सबसे ज्यादा बढ़त रही है। 

पहली बार चीन की कंपनियों का राजस्व अमेरिकी कंपनियों से ज्यादा 

इस लिस्ट में शामिल चीन की कंपनियों का राजस्व पहली बार अमेरिका की कंपनियों से ज्यादा हो गया है। सूची में शामिल कंपनियों के राजस्व का करीब 31 फीसदी हिस्सा चीनी कंपनियों का है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.