उत्तर प्रदेश में जून की तुलना में जुलाई में बढ़ गई बेरोजगारी 

मुंबई- देश में बेरोजगारी के मोर्चे पर भारी गिरावट आई है। जनवरी में 6.56 फीसदी के बाद 6 महीने में यह सबसे निचले स्तर पर पहुंच गई है। जुलाई में यह 6.80 फीसदी रही है। जून की तुलना में इसमें एक फीसदी की कमी आई है।  

हालांकि शहरी क्षेत्रों में बेरोजगारी की दर अभी भी 8.21 फीसदी है, जो मई के बराबर है। जून में यह घटकर 7.30 फीसदी पर चली गई थी। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) के आंकड़ों के मुताबिक, गांवों में 6.14 फीसदी बेरोजगारी दर जुलाई में थी। जून में यह 8.03 फीसदी पर थी।  

गांवों में दरों के घटने के पीछे जुलाई में मानसून का अच्छा होना है। इससे गांवों में लोगों को फसलों के क्षेत्र में रोजगार मिला। सीएमआईई ने कहा, जून में 39 करोड़ लोगों के पास रोजगार था। 

आंकड़ों के मुताबिक, पूरे देश में हरियाणा में सबसे ज्यादा 26.9 फीसदी बेरोजगारी की दर थी। जून में यह 30.6 फीसदी पर थी। हालांकि मई में 24.6 फीसदी पर थी। जम्मू एवं कश्मीर दूसरे नंबर पर रहा। यहां बेरोजगारी की दर 20.2 फीसदी रही जो जून में 17.2 फीसदी पर थी। 19.1 फीसदी के साथ राजस्थान तीसरे और 18.8 फीसदी के साथ बिहार चौथे स्थान पर रहा। 

उत्तरप्रदेश में जुलाई में बेरोजगारी की दर 3.3 फीसदी थी जो जून महीने में 2.8 फीसदी पर थी। इसमें बढ़त देखी गई है। ओड़िसा में सबसे कम 0.9 फीसदी जबकि उसके बाद मेघालय में 1.5 फीसदी बेरोजगारी रही। पंजाब में 7.7, दिल्ली में 8.9 फीसदी बेरोजगारी दर जुलाई में रही। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.