स्विगी के कर्मचारियों की हड़ताल, ऑर्डर मिलने में होगी देरी  

मुंबई- अगर स्विगी से कोई ऑर्डर किया है और उसकी डिलीवरी में सामान्य से ज्यादा समय लग रहा है, तो स्विगी के डिलीवरी वर्कर्स की हड़ताल इसकी वजह हो सकती है।  

हाल के समय में ये फूड और ग्रॉसरी डिलीवरी ऐप बेंगलुरू, मुंबई सहित कई महानगरों में अपने गिग वर्कर्स की हड़ताल से परेशान रहा है। इस कड़ी में अब दिल्ली का भी नाम जुड़ गया है, जहां स्विगी के डिलीवरी वर्कर्स हड़ताल कर रहे हैं। इस हड़ताल की वजह कर्मचारियों को मिलने वाले वेतन में कमी और बुरे वर्किंग कंडीशन्स हैं। 

स्विगी इस समय फूड डिलीवरी के साथ इंस्टामार्ट के तहत ऑन डिमांड ग्रॉसरी डिलीवरी भी करती है. इसके अलावा वह सर्विस के तहत पैकेज डिलीवरी भी करती है, मतलब आप अपना सामान किसी और को भिजवा सकते हैं, या कोई और आपको कोई सामान भेज सकता है। 

स्विगी और जोमैटो जैसे फूड डिलीवरी ऐप कर्मचारियों की कमी का भी सामना कर रहे हैं। कम डिलीवरी वर्कर्स होने की वजह से बाकी के डिलीवरी वर्कर्स पर काम का ज्यादा बोझ है। इसके अलावा ग्रॉसरी डिलीवरी के लिए इंस्टामार्ट और ब्लिंकिट जैसे क्विक डिलीवरी ऐप से डिलीवरी वर्कर्स पर 8 से 15 मिनट के भीतर सामान डिलीवर करने का दबाव भी है। क्विक डिलीवरी पर बहुत सारे लोगों ने सवाल भी उठाए हैं क्योंकि इससे डिलीवरी वर्कर्स की सेफ्टी खतरे में पड़ती है। 

पेआउट या वेतन में कमी की दिक्कत से केवल स्विगी के डिलीवरी वर्कर्स ही नहीं जूझ रहे हैं. बल्कि हाल के समय में कई डिलीवरी ऐप्स ने ऐसा ही किया है। इसके अलावा होम सर्विसेज देने वाली कंपनी अर्बन कंपनी के कर्मचारी भी अनफेयर लेबर प्रैक्टिसेज को लेकर हड़ताल कर चुके हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.