एफएमसीजी में पारले जी फिर बना सबसे बड़ा ब्रांड, जानिए क्यों  

मुंबई- फास्ट-मूविंग कंज्यूमर गुड्स (FMCG) ब्रांड पारले 2021 में भारत में अपने सेगमेंट में लगातार दसवें साल मोस्ट चूजन ब्रांड बना है। कांतार इंडिया की एनुअल ब्रांड फुटप्रिंट 2022 रिपोर्ट में ये जानकारी सामने आई है। 

टॉप दस सबसे अधिक चुने गए FMCG ब्रांड में पारले के बाद अमूल, ब्रिटानिया, क्लिनिक प्लस, टाटा, घड़ी, नंदिनी, कोलगेट, एविन और लाइफबॉय हैं। इन ब्रांडों को कंज्यूमर रीच पॉइंट्स (CRPs) के आधार पर रैंक किया है। इसे कंज्यूमर की प्रोडक्ट खरीद और एक साल में खरीदारी की फ्रीक्वेंसी के आधार पर मापा जाता है।  

रिपोर्ट में यह भी पता चला है कि 6,531 मिलियन के सीआरपी स्कोर के साथ पारले लगातार 10वें साल टॉप स्थान को हासिल करने में सफल रहा है। ब्रांड ने पिछले साल की रैंकिंग के मुकाबले सीआरपी में 14% की बढ़ोतरी दर्ज की।पारले ने अपने मेन प्रोडक्ट को लो-प्रॉफिट मार्जिन ही रखा। यानी बड़े स्केल पर उत्पादन किया और बेहद कम मुनाफा कमाया। इससे लोगों को यह बाजार में उनकी अपेक्षा से भी सस्ता मिला। 

पारले-जी बिस्किट ने जनता की सोच को समझते हुए कीमत बढ़ाने पर ज्यादा जोर नहीं दिया बल्कि अपना मुनाफा बचाए रखने के लिए पैकेट का वजन घटा दिया। बाजार से मुकाबला करने के लिए पारले ने अपने मेन प्रोडक्ट के अलावा क्रैक जैक, 20-20 जैसे अन्य बिस्किट भी बनाए। मैंगो बाइट, पारले मेलोडी जैसी कैंडी बाजार में उतारी। 

इसके अलावा, पैकेज्ड फूड ब्रांड हल्दीराम भी टॉप 25 रैंकिंग में प्रवेश करने में सफल रहा और बिस्कुट और केक ब्रांड अनमोल के साथ बिलियन सीआरपी क्लब में शामिल हो गया। हल्दीराम 24वें नंबर पर रहा है। 

बेवरेज सेगमेंट के मामले में, ब्रुक बॉन्ड 1,446 मिलियन सीआरपी पॉइंट के साथ पहले स्थान पर रहा, जबकि टाटा 1,377 मिलियन सीआरपी स्कोर के साथ दूसरे स्थान पर खिसक गया। ब्रू, नेस्कैफे, हॉर्लिक्स और बूस्ट तीसरे, चौथे, पांचवें और छठे स्थान पर रहे। 

हेल्थ और ब्यूटी सेगमेंट में, क्लिनिक प्लस, कोलगेट और लाइफबॉय ने टॉप तीन स्थानों पर कब्जा कर लिया। इसके अलावा, डेयरी सेगमेंट में, अमूल, नंदिनी और आविन जैसे ब्रांड पहले, दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.