अगले हफ्ते कर्ज और महंगा हो सकता है, आरबीआई बढ़ा सकता है ब्याज 

मुंबई- अगले हफ्ते कर्ज के और बढ़त होने की संभावना है। बैंक ऑफ अमेरिका सिक्योरिटीज ने अनुमान दिया है कि अगले हफ्ते होने वाली बैठक में रिजर्व बैंक प्रमुख दरों में बढ़ोतरी कर सकता है। अमेरिकन ब्रोकरेज का अनुमान है कि मौजूदा स्थितियों को देखते हुए रेपो दर में 0.35 प्रतिशत की बढ़त दर्ज हो सकती है।  

रिजर्व बैंक की मॉनिटरी पॉलिसी कमेटी 5 अगस्त को बैठक के नतीजों का ऐलान करेगी। इससे पहले लगातार दो महीनों में रिजर्व बैंक ने दरों में कुल मिलाकर 0.9 प्रतिशत की बढ़त की थी। ब्रोकरेज हाउस ने अनुमान दिया है कि रिजर्व बैंक आगे भी स्थितियों के अनुसार दरों में बढ़ोतरी जारी रख सकता है। 

ब्रोकरेज हाउस के मुताबिक बढ़ती महंगाई को लेकर रिजर्व बैंक सख्त रुख अपना रहा है और फिलहाल केंद्रीय बैंक का मुख्य लक्ष्य महंगाई दर को नियंत्रित करना है इसलिए अगली पॉलिसी समीक्षा में दरें बढ़ेंगी। हालांकि ब्रोकरेज हाउस ने ये भी कहा कि रिजर्व बैंक भले ही आगे भी दरों में बढ़ोतरी करेगा लेकिन ये फैसला ग्रोथ और अर्थव्यवस्था की स्थिति को देखकर लिया जाएगा।

रिजर्व बैंक ने मई और जून में दो बार में रेपो दरों में 0.9 प्रतिशत की बढ़त की थी। ब्रोकरेज हाउस ने अपनी रिपोर्ट में लिखा कि उन्हें उम्मीद है कि रिजर्व बैंक पॉलिसी दरों को 0.35 प्रतिशत बढ़ा कर 5.25 प्रतिशत के स्तर पर ले जाएगा जो कि महामारी के पहले के स्तर से भी ऊपर है।  

ब्रोकरेज हाउस ने अनुमान दिया है कि एमपीसी वित्त वर्ष 2022-23 के लिए खुदरा महंगाई का अनुमान 6.7 प्रतिशत पर और जीडीपी ग्रोथ का अनुमान 7.2 प्रतिशत पर बनाए रखेगी. पिछले हफ्ते ही रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि महंगाई दर अप्रैल में हल्की गिरावट के साथ 7.04 प्रतिशत पर आई है जिससे संकेत हैं कि महंगाई अपना उच्चतम शिखर छू चुकी है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.