ईवी बनाने वाली 5 कंपनियों को नोटिस,सीसीपीए ने पूछा, क्यों न हो कार्रवाई  

मुंबई। इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवी) में आग लगने की घटनाओं का मामला अब जोर पकड़ रहा है। केंद्रीय उपभोक्ता संरक्षण प्राधिकरण (सीसीपीए) ने खुद संज्ञान लेते हुए चार-पांच ईवी कंपनियों को नोटिस भेजा है। इसमें पूछा है कि क्यों न उन पर कार्रवाई की जाए। इन कंपनियों के वाहनों में बैटरी फटने के कारण आग लगने की घटनाएं सामने आई थीं।  

सीसीपीए की मुख्य आयुक्त निधि खरे ने मंगलवार को कहा कि प्राधिकरण इस मामले में जल्द सुनवाई करेगा। हमने चार-पांच कंपनियों को नोटिस भेजा है। आग लगने के कारणों की जानकारी मांगी है। खरे ने कहा कि रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) से भी इस मामले में रिपोर्ट मांगी गई है। सड़क परिवहन मंत्रालय ने डीआरडीओ को ईवी में आग लगने की घटनाओं की जांच का जिम्मा सौंपा है।  

उन्होंने कहा कि इस तरह की घटना में लोगों की जान भी गई है। ऐसे में यह सवाल उठता है कि अगर ये उत्पाद मानक परीक्षण पर खरे थे तो इसमें आग कैसे लगी। उन्होंने कहा कि काफी शिकायतें मिलने के बाद कंपनियों से जवाब मांगा गया है। पिछले हफ्ते केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी कहा था कि जवाबदेह पाए गए ईवी निर्माताओं के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 

आग लगने की घटना से कई लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी। इसके बाद सरकार हरकत में आई और कंपनियों पर सख्ती की थी। ऐसी घटनाओं में आग लगने के बाद सुरक्षा मुद्दों के कारण कई ईवी निर्माताओं ने अपने वाहनों को वापस मंगाया था। ओकिनावा ने 3,215 वाहनों को वापस बुलाया जबकि प्योर ईवी ने 2,000 और ओला इलेक्ट्रिक ने 1,441 वाहनों को वापस बुलाया था। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.