4,500 करोड़ रुपये के मालिक हैं ललित मोदी, कई सारे कारोबार में हैं 

मुंबई- आईपीएल के पूर्व चेयरमैन ललित मोदी ललित मोदी मनी लॉन्ड्रिंग मामले में भले ही भगोड़ा घोषित हैं, लेकिन न तो इससे उनकी लाइफ स्टाइल पर फर्क पड़ा है और न ही उनकी करोड़ों की कमाई पर। ललित मोदी इस वक्त भी 4500 करोड़ रुपए के मालिक हैं। साथ ही लंदन में इनका एक शानदार महलनुमा घर भी है। 

मोदी इंटरप्राइजेज की कुल नेटवर्थ 12 हजार करोड़ रुपए की है। कंपनी एग्रो, टोबैको, पान मसाला, माउथ फ्रेशनर, कन्फेक्शनरी, रिटेल, एजुकेशन, कॉस्मेटिक, एंटरटेनमेंट और रेस्तरां का बिजनेस करती है। भारत के अलावा मोदी इंटरप्राइजेज का कारोबार मध्य पूर्व, पश्चिमी अफ्रीका, दक्षिण पूर्व अफ्रीका, दक्षिण पूर्व एशिया, पूर्वी यूरोप, ऑस्ट्रेलिया, साउथ अमेरिका और सेंट्रल अमेरिका तक फैला है। 

ललित मोदी के पास तीन फेरारी हैं जिनकी कीमत 15 करोड़ रुपए हैं। ललित मोदी ने 14 जुलाई को सोशल मीडिया पर गर्लफ्रेंड सुष्मिता सेन के साथ कई सारी फोटोज शेयर कीं और कैप्शन में लिखा कि वो ग्लोबल टूर के बाद लंदन वापस आ गए हैं। ललित मोदी ने 14 जुलाई को सोशल मीडिया पर गर्लफ्रेंड सुष्मिता सेन के साथ कई सारी फोटोज शेयर कीं और कैप्शन में लिखा कि वो ग्लोबल टूर के बाद लंदन वापस आ गए हैं।  

भारत से भागने के बाद ललित मोदी लंदन के प्रतिष्ठित 117, स्लोएन स्ट्रीट पर पांच मंजिला मेंशन में रहते हैं। यह 7000 स्क्वायर फीट में फैला है। इस आलीशान बंगले में 8 डबल बेडरूम, 7 बाथरूम, 2 गेस्ट रूम, 4 रिसेप्शन रूम, 2 किचन और एक लिफ्ट है। मोदी ने इसे किराये पर ले रखा है। 2011 में इस घर का किराया हर महीने 12 लाख रुपए था।  

लंदन एस्टेट एजेंटों के मुताबिक वर्तमान में इसका किराया 20 लाख रुपए प्रति महीने से ज्यादा होगा। ललित मोदी कई चर्चित विदेशी मॉडल के साथ पार्टियां करने के लिए भी चर्चित रहे हैं। हॉलीवुड एक्ट्रेस नाओमी कैंपबेल के साथ भी उनकी पार्टियों की तस्वीरें वायरल होती रही हैं। 

ललित मोदी का जन्म 29 नवंबर 1963 को भारत के एक बड़े बिजनेस परिवार में नई दिल्ली में हुआ था। उनके पिता कृष्ण कुमार मोदी और दादा गूजरमल मोदी बड़े बिजनेसमैन थे। ललित मोदी के दादा गूजरमल मोदी ने अपने भाई केदार नाथ मोदी के साथ मिलकर 1933 में मोदी ग्रुप की स्थापना की थी और उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में मोदीनगर नाम से एक औद्योगिक नगर बसाया था। गूजरमल मोदी ने बिजनेस की शुरुआत चीनी मिल से की थी। उन्हें 1968 में भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। 

मोदी की शुरुआती शिक्षा शिमला के बिशप कॉटन स्कूल में हुई। बाद में किडनैपिंग की धमकी की वजह से उनका परिवार नैनीताल चला गया। 1976 से 1980 तक ललित ने नैनीताल के सेंट जोसेफ कॉलेज से शिक्षा ग्रहण की। 1980 में ललित जब दसवीं में पढ़ रहे थे तो उन्हें बार-बार कॉलेज नहीं जाने और फिल्म देखने के लिए क्लास बंक करने की वजह से स्कूल से निकाल दिया गया था। 

1983 से 1986 तक ललित ने इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग और बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन की पढ़ाई करने अमेरिका चले गए। वह दो साल के लिए न्यूयॉर्क की पीस यूनिवर्सिटी और फिर एक साल के लिए नॉर्थ कैरोलिना की ड्यूक यूनिवर्सिटी गए, लेकिन दोनों ही यूनिवर्सिटी से अपना ग्रेजुएशन पूरा नहीं कर सके। 

अमेरिका में कॉलेज की पढ़ाई के दौरान ललित मोदी और उनके तीन दोस्तों ने एक होटल में 10 हजार डॉलर में आधा किलो कोकीन खरीदने की कोशिश की थी, लेकिन कोकीन बेचने वाले ने बंदूक दिखाकर मोदी और उनके दोस्तों को धमकाया और उनके पैसे लूट लिए। अगले दिन मोदी और उनके दोस्तों ने एक छात्र को इस मामले से जुड़े होने के संदेह में पीट दिया। 

1986 में मोदी ने खराब सेहत का हवाला देते हुए कोर्ट से भारत वापस लौटने की इजाजत मांगी, कोर्ट ने उन्हें इजाजत देते हुए भारत में 200 घंटे की कम्यूनिटी सर्विस करने का आदेश दिया था। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.