थोक महंगाई घटकर तीन महीने में सबसे कम, 15.18 फीसदी रह गई जून में

मुंबई- खुदरा के बाद अब थोक महंगाई के मोर्चे पर भी राहत मिली है। ईंधन, विनिर्मित वस्तुओं और खनिज की कीमतों में नरमी से थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) आधारित महंगाई जून में घटकर 15.18 फीसदी रह गई। यह इसका तीन महीने का निचला स्तर है।

हालांकि, खाद्य वस्तुओं की कीमतों में तेजी बने रहने से थोक महंगाई अब भी उच्च स्तर पर बनी हुई है। सरकार की ओर बृहस्पतिवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, मई, 2022 में डब्ल्यूपीआई महंगाई बढ़कर 30 साल के उच्च स्तर 15.88 फीसदी पर पहुंच गई थी। जून, 2021 में यह 12.07 फीसदी रही थी।

आयात में वृद्धि से देश का व्यापार घाटा जून में 23.52 फीसदी बढ़कर रिकॉर्ड 26.18 अरब डॉलर पहुंच गया। जून, 2021 में 9.60 अरब डॉलर का व्यापार घाटा हुआ था।

डॉलर के मुकाबले रुपया बृहस्पतिवार को 9 पैसे टूटकर सार्वकालिक निचले स्तर 79.90 पर बंद हुआ। घरेलू बाजार से विदेशी निवेशकों की पू्ंजी निकासी और डॉलर में मजबूती से रुपये में गिरावट आई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.