कहीं से भी करा सकेंगे कार और मोबाइल को रिपेयर, कसेगी कंपनियों पर नकेल

मुंबई- अगली बार जब आप मोबाइल फोन, कार या इस तरह के सामान खरीदने जाएं तो हो सकता है कि आप उसकी मरम्मत या रिपेयर किसी और भी दुकान से करा सकते हैं। कंपनियों को इसके लिए ग्राहकों को उत्पादों का पूरा विवरण देना अनिवार्य होगा। साथ ही सामान के कलपुर्जों को कंपनी के बजाय किसी तीसरी पार्टी के जरिये भी दुरुस्त किया जा सकता है।

उपभोक्ता मामलों का मंत्रालय इस तरह की खरीदी गई सामान की मरम्मत का अधिकार ग्राहकों को देगा। इससे उपभोक्ता की मूल निर्माता पर मरम्मत की निर्भरता भी खत्म हो सकेगी। मंत्रालय द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि मरम्मत का अधिकार देने का मकसद ग्राहकों को मजबूत बनाना है। इसके लिए एक समिति गठित की गई है जो इस पर अंतिम फैसला लेगी।

नए ढांचे के जरिये सामान की उचित मूल्य और तय समय में मरम्मत हो जाएगी। इससे निर्माता कंपनियों पर दबाव बनेगा कि वह ऐसे सामान बनाए जो टिकाऊ हो। विभाग ने कहा कि ऐसा देखा गया है कि कंपनियां ऐसे सामान बनाती हैं जो एक तय समय के बाद नहीं चलता है। ऐसे में ग्राहकों को मजबूरन नया सामान लेना होता है। इससे ई कचरे की समस्या से निजात मिलेगी।

मरम्मत की सुविधा खुले बाजार में उपलब्ध होने से रोजगार पैदा होगा। किसी को भी मरम्मत के लिए देने पर आत्मनिर्भर भारत को भी बढ़ावा मिलेगा। मंत्रालय के अनुसार यह व्यवस्था गेम चेंजर साबित होगी। समिति की अध्यक्ष निधि खरे ने पहली ही बैठक में खेती उपकरणों, मोबाइल फोन, टेबलेट, उपभोक्ता समानों, मोटर वाहनों, उनके उपकरणों में सुधार और उन्हें दुरुस्त करने के अधिकार को चिन्हित किया है।

इस बैठक में बाहर से मरम्मत करने पर वारंटी के अधिकार खोने जैसे मसलों पर भी चर्चा की गई। साथ ही कंपनियों द्वारा कम समय तक चलने वाले उत्पादों के उत्पादन और मरम्मत में अक्सर देरी होती है। बैठक में कहा गया कि कंपनियों को अपने उत्पाद के संबंध में समस्त तकनीकी और हार्डवेयर संबंधी जानकारियां उपलब्ध करानी चाहिए। जिससे खराबी पर ग्राहकों को मरम्मत कराने में आसानी हो। इस तरह की व्यवस्था पहले से ही कई देशों में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.