पावर ग्रिड के ईडी सहित टाटा के पांच अधिकारी रिश्वत लेने में गिरफ्तार 

मुंबई- सीबीआई ने रिश्वत के मामले में भारतीय पॉवर ग्रिड कॉरपोरेशन के कार्यकारी निदेशक (ईडी) बीएस झा और टाटा प्रोजेक्ट्स के पांच अधिकारियों को गिरफ्तार किया है। इन लोगों में टाटा प्रोजेक्ट्स के कार्यकारी वीपी देश राज पाठक और सहायक वीपी आरएन सिंह भी शामिल हैं। इन लोगों पर रिश्वत के बदले निजी कंपनी का पक्ष लेने का आरोप है। 

सीबीआई अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को बताया कि जांच एजेंसी की टीमों ने बुधवार को नोएडा, गाजियाबाद, गुरुग्राम समेत अन्य शहरों के 11 ठिकानों पर छापामारी शुरू की। इस दौरान बीएस झा के गुरुग्राम स्थित आवास से 93 लाख रुपये भी जब्त किए।  

ईटानगर में तैनात झा बीते कुछ दिनों से सीबीआई के रडार पर थे। इस बीच एजेंसी को इनपुट मिला कि झा फायदा पहुंचाने के एवज में टाटा प्रोजेक्ट्स व अन्य कंपनियों के कार्यकारी अधिकारियों से रिश्वत ले रहे थे। अधिकारियों के मुताबिक, टाटा प्रोजेक्ट्स को विश्व बैंक से पोषित नॉर्थ ईस्टर्न रीजन पावर सिस्टम इम्प्रूवमेंट प्रोजेक्ट के तहत ठेके दिए गए थे, जो क्षेत्र के बिजली बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए एक व्यापक योजना है।  

सीबीआई जब झा की गतिविधियों पर नजर रख रही थी, उस दौरान टाटा प्रोजेक्ट्स के कार्यकारी वीपी और सार्क व एसईए में भारत के एसबीयू हेड (ट्रांसमिशन और वितरण) देश राज पाठक की भूमिका सामने आई। इसी दौरान कंपनी के एवीपी कारोबार व वितरण प्रमुख आरएन सिंह भी जांच के दायरे में आ गए।  

सीबीआई का आरोप है कि झा आपराधिक साजिश करते हुए रिश्वत के बदले टाटा प्रोजेक्ट्स को विभिन्न कार्यों में अतिरिक्त तरजीह दे रहे थे। इनमें फर्जी बिल बनाने, उन बिलों को जल्द मंजूरी देने और कीमत में फेरबदल करने जैसे काम शामिल हैं। इसके बदले में उन्हें कंपनी की ओर से मोटी रिश्वत दी जाती थी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.