स्पाइसजेट की मुसीबत बढ़ी, दो विमानों की आपात लैंडिंग, 17 दिन में सातवीं बार गड़बड़ी 

मुंबई- स्पाइसजेट की दो उड़ानों को तकनीकी गड़बड़ी के बाद मंगलवार को आपात लैंडिंग करानी पड़ी। पहले मामले में दिल्ली से दुबई जा रहे स्पाइसजेट के बोइंग 737 मैक्स विमान में फ्यूल इंडिकेटर में गड़बड़ी के कारण 5000 फीट की ऊंचाई पर उड़ रहे विमान को आपात स्थिति में पाकिस्तान के कराची में उतारना पड़ा।  

दूसरे मामले में कांदला से मुंबई जा रहे विमान की 23000 फुट की ऊंचाई पर विंडशील्ट चटकने के कारण मुंबई में उतारा गया। सभी यात्री सुरक्षित हैं। बीते 17 दिनों में यह सातवीं बार है जब तकनीकी गड़बड़ी के कारण स्पाइसजेट के विमानों की आपात लैंडिंग हुई। डीजीसीए सभी मामलों की जांच कर रहा है। 

स्पाइसजेट के बोइंग 737 मैक्स विमान ने दिल्ली से दुबई के लिए उड़ान भरी थी। इस दौरान विमान का फ्यूल इंडिकेटर बाएं टैंक से तेजी से ईंधन कम होने की सूचना देने लगा। जिसको देखकर चालक दल को तेल रिसाव की आशंका हुई। विमान उस वक्त पाकिस्तान के ऊपर से गुजर रहा था। चालक दल ने सूझबूझ दिखाते हुए कराची एटीएस को सूचना दी और आपात लैंडिंग के लिए अनुमति मांगी।  

एटीएस की ओर से स्वीकृति के बाद विमान को कराची में सुरक्षित लैंड कराया गया। विमान में करीब 100 यात्री सवार थे। कराची हवाईअड्डे पर जांच में बाएं टैंक से किसी तरह का रिसाव नहीं मिला। जिसके बाद फ्यूल इंडिकेटर में गड़बड़ी को ही कारण बताया गया। इस बीच स्पाइसजेट ने मुंबई से एक विमान कराची रवाना किया और वहां फंसे यात्रियों को वापस भारत लाया गया। 

स्पाइसजेट का क्यू400 विमान कांदला से उड़कर मुंबई आ रहा था और 23000 फीड की ऊंचाई पर उसकी विंडशील्ड की बाहरी सतह चटक गई। इसकी सूचना चालक दल ने तुरंत मुंबई एटीएस को दी और विमान की प्राथमिकता के साथ पहले लैंडिंग कराई। विमान का गंतव्य मुंबई ही था लेकिन उसकी लैंडिंग में थोड़ा समय था लेकिन हादसा होने के बाद उसे पहले लैंड कराया गया। 

19 जून को पटना से दिल्ली आ रहे विमान में आग लगी और उसकी पटना में आपात लैंडिंग कराई गई, जबकि उसी दिन जबलपुर जा रहा विमान केबिन में दबाव की गड़बड़ी के कारण वापस दिल्ली लौटा था। 24 जून और 25 जून को फ्यूसलेज डोर वार्निंग के कारण विमानों को बीच सफर से लौटना पड़ा। 2 जुलाई को जबलपुर जा रहे विमान के केबिन में धुआं उठने के बाद उसे दिल्ली वापस लाया गया 

Leave a Reply

Your email address will not be published.