बंद हो सकती है गरीबों को हर महीने मुफ्त राशन देने की सरकारी योजना 

मुंबई- कोरोना के समय शुरू की गई मुफ्त राशन योजना के लिए अब सरकार के पास पैसे नहीं हैं। ऐसे में यह आशंका है कि सितंबर के बाद इसे को बंद किया जा सकता है। वित्तमंत्रालय के व्यय विभाग ने अपनी आंतरिक रिपोर्ट में कहा है कि इस योजना को सितंबर के बाद आगे बढ़ाने से और बोझ बढ़ेगा। साथ ही अगर टैक्स पर किसी भी तरह की राहत दी जाती है तो यह भी सरकार के वित्तीय सेहत पर बुरा असर डाल सकती है।  

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (पीएमजीकेएवाई) के तहत देश में 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया जाता है। व्यय विभाग ने कहा है कि इस योजना का समय बढ़ाने, पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी कम करने और खाने के तेलों पर कस्टम ड्यूटी घटाने के फैसलों से वित्तीय स्थिति गंभीर बन गई है। 

वित्तमंत्रालय ने अपनी रिपोर्ट में अनुमान लगाया है कि अगर योजना को सितंबर के बाद बढ़ाया जाता है तो 80,000 करोड़ रुपये का और बोझ बढ़ जाएगा। यानी खाद्य सब्सिडी का बिल 3.7 लाख करोड़ रुपये के पार चला जाएगा। विभाग ने इसी के साथ यह सलाह दी है कि इस योजना को न तो आगे बढ़ाया जाए और न ही टैक्स पर कोई राहत दी जाए। 

पिछले महीने सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर जो टैक्स कम किया था, उससे एक लाख करोड़ रुपये का घाटा होने का अनुमान है। चालू वित्तवर्ष के लिए बजट में जीडीपी के अनुपात में भौतिक घाटा 6.4 फीसदी रखने का लक्ष्य तय किया गया था। फिच रेटिंग ने कहा कि सब्सिडी और टैक्स में राहत से यह बढ़कर 6.8 फीसदी तक जा सकता है। 

केंद्र सरकार ने अपनी इस योजना को मार्च में 6 महीने के लिए बढ़ा दी थी। इसकी अवधि सितंबर में पूरी होगी। इसके लिए इस साल के बजट में खाद्य सब्सिडी के लिए 2.07 लाख करोड़ रुपये का प्रस्ताव रखा गया था, जो 2021-22 के 2.86 लाख करोड़ रुपये की तुलना में करीबन 79 हजार करोड़ रुपये कम था। हालांकि 6 महीने तक मुफ्त राशन की योजना बढ़ाने से खाद्य सब्सिडी बिल 2.87 लाख करोड़ रुपये तक जाने की उम्मीद है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.