64 फीसदी कंपनियों ने कहा, नए लेबर कोड से बैलेंसशीट पर असर 

मुंबई। 64 फीसदी कंपनियों का मानना है कि लेबर कोड में बदलाव से उनकी बैलेंसशीट पर असर पड़ सकता है। जबकि कई सारी कंपनियां इस कोड के लंबे समय में होने वाले फायदों की अभी समीक्षा कर रही हैं। 34 फीसदी अपने मुआवजे के ढांचे में बदलाव करने के लिए अभी कोई फैसला नहीं कर पाई हैं। 46 फीसदी भविष्य निधि (पीएफ) को बेसिक सैलरी के आधार पर जारी रखने की योजना पर काम कर रही हैं।  

सर्वे में यह सामने आया है कि 53 फीसदी संस्थान नियामकीय बदलावों, श्रम सुधारों और रिटायरमेंट के लाभ की बढ़ती लागत की अगले दो साल में समीक्षा करेंगे। इस सर्वे में 74 कंपनियों को शामिल किया गया। इसमें विनिर्माण, सूचना एवं प्रौद्योगिकी, दूरसंचार, वित्तीय सेवाओं, स्वास्ध्य और अन्य क्षेत्रों के 500 कर्मचारियों से बात की गई। यह जानकारी स्टेट ऑफ रिटायरमेंट बेनेफिट्स स्टडी इन इंडिया के एक सर्वे में दी गई है। 

अध्ययन में यह पाया गया कि 71 फीसदी कंपनियों ने नए कोड के अमल में आने से होने वाले परिवर्तनों के मद्देनजर आंकलन करना शुरू कर दिया है। सर्वे में 46 फीसदी कंपनियों ने कहा कि वे बेसिक सैलरी का 12 फीसदी पीएफ योगदान करना जारी रखेंगी।  

देश के 73 फीसदी कर्मचारियों का मानना है कि बाजार के उतार-चढ़ाव और वर्तमान में बॉन्ड के डिफॉल्ट या डाउनग्रेड से पीएफ को लेकर उनकी चिंता बढ़ गई है।10 में से 7 लोगों का पीएफ नियामक के दायरे में आता है। उनका कहना है कि कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) की सेवाओं में सुधार आया है। 

गौरतलब है कि फिलहाल ईपीएफओ कुल रकम का करीब 15 फीसदी हिस्सा शेयर बाजार में निवेश करता है। सरकार इसे बढ़ाकर 25 फीसदी करना चाहती है। इसी महीने ईपीएफओ ट्स्टी के केंद्रीय बोर्ड की बैठक होनी है। इसमें यह फैसला लिया जा सकता है। सरकार का लक्ष्य ज्यादा ब्याज हासिल करना है। मार्च में पीएफ पर ब्याज दर 0.40 फीसदी घटाकर 8.1 फीसदी कर दी गई थी। 

लेबर कोड एक जुलाई से लागू होना है। इसके लिए कई राज्यों ने तैयारी की है। इसके तहत हर दिन कर्मचारियों के काम का घंटा बढ़ जाएगा। हालांकि साप्ताहिक छुट्टी 3 दिन की हो सकती है। साथ ही कंपनियों को कुल वेतन का बेसिक सैलरी का 50 फीसदी या इससे अधिक होना चाहिए। इससे पीएफ और ग्रेच्युटी का पैसा ज्यादा कटने लगेगा लेकिन हाथ में कम पैसा आएगा। हालांकि रिटायरमेंट के बाद कर्मचारियों को ज्यादा रकम मिलेगी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.