टाटा समूह एअर इंडिया को नहीं चला पाया तो कोई और नहीं चला पाएगा  

दोहा। अगर एअर इंडिया को टाटा समूह नहीं चला पाया तो देश में उसे कोई और नहीं चला पाएगा। भारत में एयरलाइंस चलाना आसान नहीं है। यह बात विमानन सेवा देने वाली कंपनी अमीरात के अध्यक्ष टिम क्लार्क ने कही।  

उन्होंने कहा कि एअर इंडिया को यूनाइटेड एयरलाइंस जितना बड़ा होना चाहिए। इसे अपने घरेलू बाजार के साथ ही विदेशों में प्रवासी भारतीयों और भारत में होने वाली आर्थिक गतिविधियों के कारण इतना बड़ा तो होना ही चाहिए। यह सोने की खान है। एक आयोजन में क्लार्क ने कहा कि भारत के पास भारतीयों की 130 करोड़ आबादी है। यह लगातार बढ़ रही है और ऐसे में एअर इंडिया को दुनिया की सबसे बड़ी अंतरराष्ट्रीय विमानन सेवा कंपनियों में से एक होना चाहिए। 

एअर इंडिया के पास 128 विमान हैं जबकि शिकागो की यूनाइटेड एयरलाइंस के पास 860 विमान हैं। इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन (आईएटीए) के कार्यक्रम में क्लार्क ने कहा कि मुझे लगता है कि एअर इंडिया के लिए सबसे अच्छी बात यह हो सकती थी कि टाटा इसे अपने हाथ में ले ले और यही हुआ। इस कमरे में मैं शायद अकेला हूं जिसने उस समय एअर इंडिया से उड़ान भरी थी, जब टाटा के पास यह कंपनी थी। टाटा समूह बोइंग 707 को पहली बार 1959 या 1960 में खरीदा था। 

क्लार्क ने कहा कि भारत के अंतरराष्ट्ीय बाजार में अमीरात जैसी अंतरराष्ट्रीय एयरलाइनों का वर्चस्व है जो संयुक्त अरब अमीरात की दो प्रमुख एयरलाइंस में से एक है। जबकि दशकों से एअर इंडिया अभी भी एक छोटी सी कंपनी बनी हुई है। एअर इंडिया को टाटा समूह ने 27 जनवरी, 2022 को अपने कब्जे में ले लिया था। पिछले साल इसने 18,000 करोड़ रुपये में इसे खरीदा था। 

उन्होंने कहा कि भारत में निजी एयरलाइंस काफी अच्छा काम कर रही हैं, खासकर जब ईंधन की कीमतें रिकॉर्ड ऊंचाई पर हैं। सरकार ने तेल पर काफी टैक्स लगा रखा है। ऐसे समय में एयरलाइंस चलाना आसान काम नहीं है। भारत में जो सबसे अच्छी बात है वह यह कि यहां मांग काफी ज्यादा है, जो काफी सारे देशों में नहीं है। 

लुफ्थांसा के सीईओ कार्स्टन स्फोर कहा कि भारत सरकार का आइडिया काफी अच्छा रहा कि उन्होंने एअर इंडिया को एक मजबूत कंपनी बनाई। इसकी हिस्सेदारी काफी ज्यादा रही। हालांकि भारत के अंतरराष्ट्रीय बाजार में दूसरी अंतरराष्ट्रीय एयरलाइंस कंपनियों का कब्जा है, जिसमें अमीरात, कतर एयरवेज आदि हैं। हमारे लिए अच्छा है कि भारत ने एयर बबल से प्रतिबंध हटा लिया है। हम हर हफ्ते भारत में 42 फ्लाइट चला रहे हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.