सेंसेक्स 5 दिन में 3,824 अंक टूटा, 6 महीने में निवेशकों के 42 लाख करोड़ रुपये डूबे  

मुंबई- घरेलू शेयर बाजार में लगातार पांचवें कारोबारी सत्र में गिरावट रही। इस दौरान सेंसेक्स 3,824.49 अंक और निफ्टी 1,117.5 अंक टूट गया। पिछले पांच सत्रों की गिरावट से निवेशकों के 15.74 लाख करोड़ रुपये डूब गए। वहीं, बृहस्पतिवार को सेंसेक्स और निफ्टी लुढ़ककर एक साल से अधिक समय के निचले स्तर पर पहुंच गए। जनवरी से लेकर अब तक निवेशकों के 42 लाख करोड़ रुपये डूब गए हैं। 

17 जनवरी को बीएसई में सूचीबद्ध कंपनियों का मार्केट कैपिटलाइजेशन 280 लाख करोड़ रुपये था, जो अब 238 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया है। महंगाई पर काबू पाने के लिए अमेरिकी फेडरल रिजर्व की ओर से 1994 के बाद नीतिगत दरों में सबसे ज्यादा 0.75 फीसदी की बढ़ोतरी करने के बाद वैश्विक बाजारों में नरमी आई, जिसका घरेलू बाजार पर भी असर पड़ा।  

सुबह के कारोबार में अच्छी शुरुआत के बावजूद चौतरफा बिकवाली से सेंसेक्स 1,045.60 अंक यानी 1.99 फीसदी गिरकर 51,495.79 पर बंद हुआ। निफ्टी 331.55 अंक या 2.11 फीसदी टूटकर 15,360.60 पर बंद हुआ। यह सेंसेक्स और निफ्टी का एक साल से अधिक का निचला स्तर है।  

इस गिरावट के एक दिन में सूचीबद्ध कंपनियों की पूंजी 5.54 लाख करोड़ घटकर 239.20 लाख करोड़ रुपये रह गई। उधर, ब्रेंट क्रूड 0.66 फीसदी सस्ता होकर 117.68 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया।  

विदेशी संस्थागत निवेश लगातार पूंजी निकासी कर रहे हैं। बृहस्पतिवार को उन्होंने 3,257.65 करोड़ के शेयर बेचे। अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व के चेयरमैन जेरोम पॉवेल ने बढ़ती महंगाई पर काबू पाने के लिए हरसंभव कदम उठाने की प्रतिबद्धता जताई है। फेडरल रिजर्व के इस रुख से मंदी की आशंका बढ़ गई है। अमेरिका में महंगाई चार दशक के रिकॉड स्तर पर पहुंच गई है। फेडरल रिजर्व ने नीतिगत ब्याज में 0.75 फीसदी की वृद्धि की है। इससे दर 1.5 से 1.75 फीसदी के बीच हो गई है। 

बैंक ऑफ इंग्लैंड ने भी अपनी प्रमुख ब्याज दरों को 0.25 फीसदी बढ़ाकर 1.25 फीसदी कर दिया है। वस्तुओं की कीमतों में उछाल के साथ ब्रिटेन में महंगाई 40 साल के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है। बैंक ऑफ इंग्लैंड ने अक्तूबर के लिए अपने महंगाई दर अनुमान को भी बढ़ाकर 11 फीसदी कर दिया है। अप्रैल में यह 9 फीसदी थी, जो 1982 के बाद सर्वाधिक है। बैंक का संतोषजनक स्तर 2 फीसदी है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.