एनएसई और बीएसई की संपत्ति हो सकती है जब्त, देना होगा 5 करोड़ रुपये  

मुंबई- शेयर बाजार को रेग्युलेट करने वाली भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी), बॉम्बे स्टॉक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर कार्रवाई के मूड में नजर आ रही है। दरअसल, यह मामला कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग लिमिटेड (केएसबीएल) से जुड़ा है। 

इस मामले में बीएसई यानी बॉम्बे स्टॉक और एनएसई यानी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर ढिलाई करने के आरोप हैं। इसके बाद सेबी ने दोनों स्टॉक एक्सचेंज पर जुर्माना लगाया, लेकिन इन्होंने नजरअंदाज किया। अब सेबी ने सख्त आदेश दिए हैं। 

सेबी ने बीएसई और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज को नोटिस देकर पांच करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान करने को कहा। साथ ही यह आगाह किया है कि अगर 15 दिन के भीतर भुगतान नहीं होता है तो उनकी संपत्ति और बैंक खातों को कुर्क किया जाएगा। बीएसई और एनएसई पर जुर्माने का भुगतान नहीं करने की वजह से सेबी ने यह नोटिस थमाया है। 

बता दें कि सेबी ने 12 अप्रैल को केएसबीएल में गड़बड़ी का पता लगाने में ढिलाई को लेकर बीएसई पर तीन करोड़ रुपये और एनएसई पर दो करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया था। यह मामला कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग से जुड़ा है। उसने 95,000 से अधिक ग्राहकों के 2,300 करोड़ रुपये की प्रतिभूतियों को सिर्फ एक डीमैट खाते के जरिये गिरवी रखा था। 

प्रतिभूतियों को गिरवी रखकर जुटाई गई राशि का उपयोग केएसबीएल ने स्वयं और उसके समूह की संस्थाओं के लिये किया था। केएसबीएल और उसकी समूह इकाइयों ने इस राशि का उपयोग आठ बैंकों/गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों से 851.43 करोड़ रुपये जुटाने में किया। इस मामले में बीएसई और एनएसई पर जांच में ढिलाई का आरोप है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.