अमेरिका भयानक मंदी में, महंगाई 9 फीसदी से ऊपर, आने वाले समय में और खतरा 

मुंबई- दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में क्या मंदी दस्तक दे चुकी है या दे रही है या दरवाजे पर खड़ी है। यह महाशक्ति इस समय गंभीर आर्थिक हालातों से गुजर रही है। एक्सपर्ट कह रहे हैं कि मंदी अब अमेरिका की चौखट पर आ खड़ी हुई है। मंदी की बात इसलिए है, क्योंकि अमेरिका में हर चीज के दाम बढ़ गए हैं, शेयर बाजार औंधे मुंह गिर रहा है और रूस-यूक्रेन युद्ध के साथ ही कोरोना महामारी फिर से डरा रही है। इन सब से वैश्विक कारोबार पर प्रतिकूल असर पड़ा है।  

कंज्यूमर सेंटिमेंट ने इस महीने रिकॉर्ड निचला स्तर छुआ है। सबसे बड़ी परेशानी महंगाई है। विशेष रूप से गैस और खाने की कीमतें। लेकिन महंगाई को हम एक बार अलग कर दें, तो अर्थव्यवस्था वस्तुनिष्ठ रूप से काफी ठीक स्थिति में है। कंपनियां किसी को भी काम पर रख रही हैं। लंबे समय से रुकी मजदूरी दशकों की सबसे तेज गति से बढ़ रही है और महत्वपूर्ण रूप से अमेरिकी अभी भी शॉपिंग कर रहे हैं।  

इकोनॉमी पहली तिमाही में सिकुड़ी है और हमें अमेरिका के जीडीपी के कुछ और आंकड़े प्राप्त होंगे, जब सरकार बुधवार को दूसरी तिमाही के आंकड़े जारी करेगी। इसके बाद स्थिति और स्पष्ट होगी। लेकिन इससे पहले यह समझना जरूरी है कि मंदी क्या होती है और इसका महंगाई और इस बियर मार्केट से क्या संबंध है।  

मंदी अर्थव्यवस्था में गिरावट की एक लंबी अवधि होती है। जब अर्थव्यवस्था चरम पर होती है, तो यह शुरू होती है और जब अर्थव्यवस्था बॉटम लेवल पर आ जाती है, तो यह बंद हो जाती है। जब लगातार कई तिमाहियों में इकोनॉमी में सिकुड़न देखाई देने लगती है, तो मंदी आने की बात कही जाती है। मंदी दिखाने के लिए महत्वपूर्ण डेटा जीडीपी रेट होता है। मंदी आने पर बेरोजगारी बढ़ जाती है, शेयर बाजारों में गिरावट रहती है, और वेतन-भत्ते घट जाते हैं। 

महंगाई तब परेशान करती है, जब उपभोक्ताओं द्वारा खरीदी जाने वाली लगभग हर वस्तुओं और सेवाओं की औसत कीमत बढ़ जाती हैं। इसमें भोजन, घर, कार कपड़े, खिलौने सहित सब शामिल हैं। इसे ही हम महंगाई कहते हैं। अमेरिका में अभी महंगाई 40 वर्षों की सबसे उच्च गति से बढ़ रही है। मई में महंगाई दर 8.6 फीसदी दर्ज हुई थी। 

एक बियर मार्केट उसे कहते हैं, जब स्टॉक्स अपने हाल के उच्च स्तर से 20 फीसदी या अधिक गिर जाएं। यह वॉल स्ट्रीट में अत्यधिक निगेटिव सेंटिमेंट का संकेत है। टेक-हेवी नैस्डैक इस समय बियर मार्केट में है। यह इस साल 28 फीसदी टूट चुका है। लेकिन वॉल स्ट्रीट के व्यापक सूचकांक एसएंडपी 500 अभी मंदी में नहीं आया है। हालांकि, यह मंदी में आने के करीब है। यह जनवरी की शुरुआत के उच्च स्तर से 18 फीसदी टूट चुका है 

Leave a Reply

Your email address will not be published.