कृषि क्षेत्र में तेजी से घट रहा रोजगार, अप्रैल-मई में 1.4 करोड़ लोग निकले 

मुंबई- मई महीने में बेरोजगारी दर गिरकर 7.12 फीसदी पर पहुंच गई है। अप्रैल में यह 7.82 फीसदी पर थी। बेरोजगारी दर में गिरावट मुख्य रूप से मई में 10 लाख लोगों को रोजगार मिलने से आई है। इसके साथ ही देश में कुल रोजगार की संख्या बढ़कर 40.4 करोड़ हो गई है।  

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकनॉमी (सीएमआईई) ने एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी। इसने कहा कि यह लगातार दूसरा महीना है, जब रोजगार की दर में बढ़त आई है। अप्रैल में रोजगार की दर 37.05 फीसदी थी जो मई में मामूली बढ़कर 37.07 फीसदी हो गई।  

रिपोर्ट के मुताबिक, खरीफ का सीजन शुरू होने से कृषि के क्षेत्र में कामगारों की मांग बढ़ेगी, जिससे आने वाले दिनों मे बेरोजगारी की दर में और कमी आने की संभावना है। सीएमआईई ने कहा कि मैक्रो स्तर पर स्थिरता और सेक्टर स्तर पर कामगारों के रुझान में सकारात्मकता बनी हुई है।  

इसने कहा कि कृषि से उद्योग और सेवा क्षेत्र में पिछले दो महीने से बड़े पैमाने पर रोजगार स्थानांतरण हो रहा है। इससे कृषि में रोजगार अप्रैल में 52 लाख घटा जबकि मई महीने में 96 लाख घट गया। यानी दो महीने में करीबन 1.47 करोड़ रोजगार कम हो गए। 

देश के उद्योग क्षेत्र में पिछले दो महीने में 1.56 करोड़ रोजगार मिला जबकि सेवा क्षेत्र में 72 लाख रोजगार पैदा हुआ। सीएमआईई ने कहा कि उद्योग और सेवाएं कृषि की तुलना में अधिक उत्पादक के रूप में श्रम का उपयोग करते हैं, इसलिए इसमें हालिया परिवर्तन तेजी से हुआ है। सेवा क्षेत्र में इन दो महीनों में 72 लाख रोजगार बढ़ा जिसमें से अप्रैल में सबसे ज्यादा रहा। 

अप्रैल और मई में विनिर्माण क्षेत्र में कुल 54 लाख रोजगार मिले जिससे इसमें कुल रोजगार की संख्या 3.4 करोड़ हो गई है। यह कोरोना के बाद से सबसे ज्यादा है, पर अक्तूबर- दिसंबर 2019 में 4 करोड़ की तुलना में यह अभी भी करीबन 60 लाख कम है। निर्माण क्षेत्र में 1 करोड़ रोजगार अप्रैल मई में बढ़े, जिससे कुल रोजगार 7.2 करोड़ हो गया। यह इस उद्योग में काफी लंबे समय बाद सबसे ज्यादा है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.