शेयर बाजार में इतिहास की सबसे बड़ी गलती, 250 करोड़ का नुकसान 

मुंबई। शेयर बाजार में इतिहास की बड़ी गलती की वजह से एक ब्रोकिंग हाउस को 200-250 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। इस तरह के नुकसान अमूमन दूसरों की गलती से होते हैं जिसे फैट फिंगर ट्रेडिंग कहा जाता है। इस घटना के सामने आने के बाद नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) ने ब्रोकर हाउसों को सावधान किया है।  

एनएसई ने कहा है कि कारोबार करते समय इस तरह के नकली या किसी और अन्य ऑर्डर को ध्यान से देखने की जरूरत है। 10 साल पहले भी एनएसई के डेरिवेटिव्ज में इसी तरह से एक कारोबारी ने गलती से बटन दबा दिया था, जिसमें 60 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। एक्सचेंज ने कहा कि ट्रेडर्स कई बार ऐसा काम करते हैं जिसमें भाव ही नहीं दिखता है और बाद में उन्हें नुकसान होता है। 

बृहस्पतिवार को दोपहर के समय एक कारोबारी ने निफ्टी कॉल ऑप्शन के 25 हजार लॉट बेचा। इसका 14,500 रुपये भाव तय किया गया था। हालांकि जब उसने बटन दबाया तो लॉट का भाव 2100 रुपये हो गया। इससे उसे 200-250 करोड़ रुपये का नुकसान मिनटों में हो गया। निफ्टी में एक लॉट में 50 शेयर होते हैं। 

एनएसई ने कहा है जो ब्रोकर्स इस सर्कुलर का पालन नहीं करेंगे, उन्हें कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है। एक्सचेंज का मानना है कि यह सब ब्रोकरों के बीच का मामला है और वे ही समझ सकते हैं। जानकारों का कहना है कि अगर गलती करने वाले के पास बीमा होगा तो उसे इसकी भरपाई मिल सकती है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.