यूपीआई से पहली बार 10 लाख करोड़ का लेनदेन 

मुंबई- यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (यूपीआई) के जरिये पहली बार 10 लाख करोड़ रुपये का लेनदेन हुआ है। नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) के आंकड़ों के मुताबिक, मई में 595 करोड़ लेनदेन हुए थे जो अप्रैल में 558 करोड़ था।  

2016 में यूपीआई के शुरू होने के बाद मार्च, 2020 में इसका कुल लेनदेन 124 करोड़ और 2.06 लाख करोड़ रुपये था। मई, 2021 में यह 117 फीसदी बढक़र 5 लाख करोड़ रुपये को पार कर गया था। 2021-22 में इसके जरिये एक लाख करोड़ डॉलर यानी करीबन 77.5 लाख करोड़ रुपये का लेनदेन हुआ था। बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप (बीसीजी) ने कहा है कि 2026 तक भारत का डिजिटल भुगतान बाजार तीन गुना बढक़र 10 लाख करोड़ डॉलर तक पहुंच सकता है।  

इसमें सबसे ज्यादा योगदान मर्चेंट पेमेंट्स का होगा जो अगले पांच साल में तेजी से बढ़ेगा। यह डिजिटल भुगतान में इस समय 20 फीसदी योगदान करता है जो 2026 तक 65 फीसदी हो सकता है। गैर नकदी लेनदेन में यूपीआई की भागीदारी 60 फीसदी है। रिपोर्ट के अनुसार, इसके जरिए अब ज्यादा वृद्धि तीसरे स्तर से लेकर छठें स्तर के शहरों से आएगी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.